feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner


13 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
24 January 2009 at 2:09 AM  

ताऊ भी सेब बन गया होगा इस गड्डी में.

gravatar
Dr.Parveen Chopra said...
24 January 2009 at 2:14 AM  

ताऊ की गड्डी में भरे इतने ता़ज़े ताज़े सेब चुरा कर खाने की इच्छा हो रही है, बताइये क्या करें ?

gravatar
उन्मुक्त said...
24 January 2009 at 3:50 AM  

सेब हैं।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
24 January 2009 at 6:03 AM  

क्या जमाना आ गया? ताऊ ने अभी खेती बाडी शुरु की है और भाटिया जी ने ताऊ की ये लोडर भी जब्त कर ली? :)

अरे भाईयों, ताऊ से जो पिस्से भाटिया जी को लेने थे उसके एवज मे भाटिया जी ये ताऊ की लोडर जब्त करके ले गये .

भाई वापस करवाईये, वर्ना खेतों मे सब सेब खराब हो जायेंगे.

रामराम.

gravatar
Anil Pusadkar said...
24 January 2009 at 6:06 AM  

ये बढिया है कभी घोड़ा तो कभी सेब,गाड़ी का इतना बेहतरीन इस्तेमाल मैने आज-तक़ नही देखा।

gravatar
seema gupta said...
24 January 2009 at 7:08 AM  

सेब की चोरी न बाबा न अगर ए गाड़ी ताई जी चला रही हुई तो?????????????

Regards

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
24 January 2009 at 8:07 AM  

ताऊ रामपुरिया सही कह रहे है।

gravatar
dwij said...
24 January 2009 at 9:17 AM  

अरे हमारे हिमाचल का सेब
!
ताऊ जी कहाँ ले जा रहे हो?


आपके ब्लॉग पर आकर मुझे मिली
टोबा टेक सिंह . यह मेरी सबसे
अधिक पसन्दीदा कहानी है. मेरे बुज़ुर्गोँ ने भी विभाजन का दंश झेला है.

द्विजेन्द्र द्विज

gravatar
Mrs. Asha Joglekar said...
24 January 2009 at 9:50 AM  

इतने सारे सेब ! फिर बाजार में महंगे क्यूं ?

gravatar
दीपक कुमार भानरे said...
24 January 2009 at 11:45 AM  

श्रीमान जी इतना सारा सेब कान्हा ले जा रहे हैं . क्या इसका अचार डालेंगे या फिर फलों की दूकान खोल राखी हैं . जो भी है अच्छा है .
धन्यवाद .

gravatar
विष्णु बैरागी said...
24 January 2009 at 9:19 PM  

इसे कहते हैं बोलता चित्र।

gravatar
Tapashwani Anand said...
24 January 2009 at 10:42 PM  

हमारा भी ख्याल रखे, कुछ सेब इधर भी ...............

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:04 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय