feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

तलत महमुद जी भाग ४

.

दिले नांदा तुझे हुआ क्या है, तो आईये इस दिले नादा की आवाज तलत साहब की आवाज मै सुने क्या कहते है, यादो की दुनिया मै चलिये मेरे साथ, ओर सोचिये आज के गीतो का क्या मुकबला हो सकता है इन पुराने गीतो से?







Powered by eSnips.com

7 टिपण्णी:
gravatar
मोहन वशिष्‍ठ said...
25 January 2009 at 10:33 AM  

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

gravatar
अल्पना वर्मा said...
25 January 2009 at 11:25 AM  

dil e nadan geet sadabahar geet hai...aur bhi kayee badey khubsurat geet aap ne suna diye--nirmala ji ke saath gaya duet achcha laga.

talat ji ki awaaz mein ek kashish thi wah abhi tak to naye singers mein kisi mein suni nahin.

आप को भारत देश के गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

gravatar
संगीता पुरी said...
25 January 2009 at 12:09 PM  

बहुत सुंदर....आप सबों को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
25 January 2009 at 1:43 PM  

गाने तो नही सुन पाऊँगा पर तलत जी की तो बात ही कुछ ओर थी। साथ ही गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

gravatar
MUFLIS said...
26 January 2009 at 6:47 AM  

Talatji ke geet dekh liye haiN,
sunn nhi paa rahaa hooN,
could be sm technical problem at my end...
ye Nirmala ke sath duet kaun sa hai?.film...??
---MUFLIS---

gravatar
दिलीप कवठेकर said...
26 January 2009 at 12:22 PM  

All songs are amazingly sweet and thanks for your efforts.

Except two/three songs all are lesserknown songs, and hence thanks once again.

Ganatantra divas ki shubhakamanaaye.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:04 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय