feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

छि छि...

.


केसे केसे दिवाने?????

11 टिपण्णी:
gravatar
Arvind Mishra said...
23 January 2009 at 2:14 AM  

छिः छिः क्यों यह तो सहज मानवीय जुगुप्सा है !

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
23 January 2009 at 3:45 AM  

यो मेरा मट्टा के देखण लाग रया सै?

रामराम.

gravatar
Tarun said...
23 January 2009 at 4:15 AM  

ऐसे ऐसे ही दिवाने, वरना नही पड़ते ये कपड़े खुलवाने...

gravatar
P.N. Subramanian said...
23 January 2009 at 4:45 AM  

Maa tujhe pranam

gravatar
संजय बेंगाणी said...
23 January 2009 at 6:58 AM  

इतनी ही छी छी थी तो यहाँ छापी ही क्यों?

gravatar
शाश्‍वत शेखर said...
23 January 2009 at 7:01 AM  

होता है चलता है दुनिया है|

gravatar
विनय said...
23 January 2009 at 11:53 AM  

मन क्यों बहका रे बहका?

---आपका हार्दिक स्वागत है
गुलाबी कोंपलें

gravatar
HARI SHARMA said...
23 January 2009 at 4:44 PM  

IS CHITRA MAI KOI KHARAAB BHAAV NAHE HAI. AGLAA SHRADHHA KE SAATH NIHAAR RAHAA HAI. LEKIN AAP ISE KAHAAN SE KYU LAAYE HAI JEE. DUNIYAA MAI BAHUT KUCHH BAHUT TARAH SE HOTAA RAHTAA HAI

gravatar
सचिन मिश्रा said...
23 January 2009 at 10:05 PM  

अब इन्हें क्या कहूँ...?

gravatar
प्रकाश बादल said...
26 January 2009 at 9:59 PM  

कोई देख लेगा राज भाई??

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:06 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय