feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

विचार

.

नमस्कार आप सभी को , आज मुझे एक पुराना केलेंडर मिला, पुराना था तो फ़ेंकने वाले ने सोचा कि इसे फ़ेंक दे तभी मेरी नजर उस केलंडर पर पडी, ओर उस पर अंकित विचार मुझे बहुत अच्छे लगे, सो मेने उन से वो केलेंडर मांग लिया, ओर अब रोजाना उस पुराने केलेंडर मे से एक एक विचार आप लोगो के लिये यहां प्रकाशित किया करुंगा,
ओर अगर आप को पसंद आये तो जरुर बताये....

आज का विचार...
अच्छी पुस्तकें अच्छे साथी की तरह हैं,अशलील साहित्य हमारे मन को दूषित करता है,तथा हमे गलत रास्ते की ऒर ले जाता है.
धन्यवाद

22 टिपण्णी:
gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
1 October 2009 at 2:25 PM  

सच्ची बात।

gravatar
PD said...
1 October 2009 at 2:27 PM  

achchha hai ji.. aap har din chhapen.. ham padhenge.. :)

gravatar
M VERMA said...
1 October 2009 at 2:33 PM  

सुविचार

gravatar
जी.के. अवधिया said...
1 October 2009 at 2:41 PM  

बिल्कुल सही बात है! अच्छी पुस्तकों से ज्यादा अच्छा साथी मिल भी नहीं सकता।

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
1 October 2009 at 2:52 PM  

बिलकुल सही विचार है।

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
1 October 2009 at 3:16 PM  

Bilkul sahi aur manan karane yogy baat kahi aapne...dhanywaad..

gravatar
Nirmla Kapila said...
1 October 2009 at 3:31 PM  

bilakul sahee kahaa hai dhanyavaad

gravatar
mehek said...
1 October 2009 at 3:32 PM  

sahi baat hai.

gravatar
रविकांत पाण्डेय said...
1 October 2009 at 4:14 PM  

विचार पसंद आया। सत्य वचन!

gravatar
HEY PRABHU YEH TERA PATH said...
1 October 2009 at 5:02 PM  

सत्य वचन गुरुदेव!

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
1 October 2009 at 5:29 PM  

saty vachn kintu ............

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
1 October 2009 at 8:05 PM  

ये आपने बहुत अच्छा काम किया, एक सदविचार एक बीज कीतरह होता है, क्या पता कब वो किसी के मन में वृक्ष का रुप लेकर फ़ल जाये.

रामराम.

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
1 October 2009 at 10:09 PM  

बिल्कुल सही बात्!!! ताऊ के कथन से सहमत........

gravatar
शरद कोकास said...
1 October 2009 at 11:55 PM  

भाटिया जी पुरानी चीजें कभी बेकार नही होती । हम भी एक दिन पुराने केलेंडर की तरह हो जायेंगे ।

gravatar
Anil Pusadkar said...
2 October 2009 at 6:54 AM  

सत्य वचन्। भाटिया जी महाराज की जय्।रोज़ सुबह अच्छी हो जायेगी।

gravatar
Anil Pusadkar said...
2 October 2009 at 6:56 AM  

और अच्छा ब्लाग भी अच्छा साथी साबित है,जैसे आपका ये ब्लाग सही रास्ता दिखाता है।

gravatar
डा प्रवीण चोपड़ा said...
2 October 2009 at 1:31 PM  

बहुत अच्छे।

gravatar
अन्तर सोहिल said...
3 October 2009 at 1:50 PM  

बहुत सुन्दर विचार
अच्छा रहेगा जब हर रोज एक नया विचार, विचारने को मिलेगा

प्रणाम स्वीकार करें

gravatar
Pandit Kishore Ji said...
4 October 2009 at 4:25 PM  

khari va sachhi baat

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
4 October 2009 at 6:54 PM  

VICHAARON KI UTTAM SHRANKHLA KI SHURUAAT HAI BHAATIYA JI .....
AAPNE THEEK LIKHA ACHAA SAHITY MAN KO ACHEE DISHA DETA HAI ....

gravatar
Pradeep said...
28 January 2011 at 4:52 AM  

bahut sundar vichar hai
Thanks

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:42 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय