feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

आर्डर..आर्डर..आर्डर..

.

ताऊ एक बार बहुत गहरी सोच मै बेठा हुआ था, ना ब्लांगिंग ना, फ़ोन.... ताई आज ताऊ को परेशान देख कर बोली ?
आज आप किस सोच मै बेठे है जी ?
ताऊ हां आज मै बहुत परेशान हूं !
ताई लेकिन क्यो ?
ताऊ मुझे समझ नही आती कि इन एन डी टी वी वालो को केसा पता चल जाता है कि हम इन्हे देख रहे है?
ताई मतलब ?
देखो ना जब मेने टी वी चलाया तो यह छोरी बोली ""आप देख रहे है एन डी टी वी"" !!!
**************************************

भिखारी, पहले आप मुझे १० रुपये देते थे, फ़िर आप ने पांच रुपये कर दिये, ओर अब एक रुपया ही ??
आदमी, पहले मै कुवारा था, फ़िर शादी हो गई... फ़िर बच्चे हो गये इस लिये.
भिखारी , ओह अब समझा आप मेरे पेसो से अपना घर चला रहे है.
********************************************
मालिक नोकर से.. सुन मुझे सुबह चार बजे जगा देना !!
नोकर मालिक से.. लेकिन मालिक मुझे समय देखना नही आता ?
मालिक अबे तु जगा देना समय मै खुद देख लुगां.
******************************************
जज साहब आदालत मै
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
ताऊ तो लिख
एक पिज्जा
एक भुनी हुयी मुर्गी
एक कोका कोला ठंडा
ओर एक सालाद
जज शट अप
ताऊ..
शट अप नही
थम्स अप या कोला
***************************************
एक आदमी ईद मनाने के लिये मांस लेकर जा रहा था, आसमान से चील आई ओर मांस का टुकडा ले कर वापिस आसमान मै उड गई...
वो आदमी जोर जोर से हंसने लगा..
बीबी ने पुछ मास का टुकडा तो चील ले गई ओर आप पागलो की तरह हंस रहे है?
आदमी बोला अरी बनाने की विधि तो मेरे पास ही है, बनाये गी केसे????

25 टिपण्णी:
gravatar
समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...
30 September 2009 at 4:04 PM  

. बहुत उम्दा चुटकुले खासकर टी.वी.

gravatar
समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...
30 September 2009 at 4:08 PM  

चलिए एक भिखारीवाला मै टीप में ठेल रहा हूँ -----

एक भिखारी को बीस का नोट पड़ा मिला पास में ही एक सलाहकार महोदय खड़े थे . भिखारी को पैसे गिनानने नहीं आते थे तो उसने सलाहकार को नोट दिखा कर पुछा सर यह कितने का नोट है ?
सलाहकार ने झट से बीस का नोट लेकर उसे दस का नोट वापिस कर दिया यह कहते हुए की दस सलाह पूछने के काट लिए है .

gravatar
समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...
30 September 2009 at 4:10 PM  

चलिए एक भिखारीवाला मै टीप में ठेल रहा हूँ -----

एक भिखारी को बीस का नोट पड़ा मिला पास में ही एक सलाहकार महोदय खड़े थे . भिखारी को पैसे गिनने नहीं आते थे तो उसने सलाहकार को नोट दिखा कर पुछा सर यह कितने का नोट है ?
सलाहकार ने झट से बीस का नोट लेकर उसे दस का नोट वापिस कर दिया यह कहते हुए की दस रुपये सलाह पूछने के काट लिए है .

gravatar
mehek said...
30 September 2009 at 4:27 PM  

ha ha mazedar:)

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
30 September 2009 at 5:12 PM  

ताऊ..
शट अप नही
थम्स अप या कोला

हा हा हा हा ....

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
30 September 2009 at 5:26 PM  

मजेदार!

gravatar
Vivek Rastogi said...
30 September 2009 at 5:40 PM  

हा हा बहुत अच्छे ।

gravatar
Vidhu said...
30 September 2009 at 6:08 PM  

जी हंसी तो आना ही है ...अच्छा लगा इन्हें पढ़कर .आभार

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
30 September 2009 at 6:13 PM  

हा हा हा......मजेदार्!!
ये तो हो ही नहीं सकता कि ताऊ पे कोई चुटकुला कहा जाए ओर उसपे किसी को हँसी न आए....ताऊ तो सन्ता-बन्ता को भी मात देने लगा है:))

gravatar
P.N. Subramanian said...
30 September 2009 at 6:28 PM  

मजा आ गया जी. आभार.

gravatar
Mithilesh dubey said...
30 September 2009 at 7:30 PM  

बहुत खुब।

gravatar
अविनाश वाचस्पति said...
30 September 2009 at 7:46 PM  

चुटकुले या कुलेचुट
चुटपुट या पुटचुट
जब भी मुंह खोले
दो चार दांत खो दे

gravatar
Udan Tashtari said...
30 September 2009 at 8:21 PM  

baहुt मजेदाR.

आनन्द आ गया.

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
30 September 2009 at 8:50 PM  

हां.. हां ...... हां .......... बहुत ही लाजवाब ....... बिखारी के पैसे पर घर चल रहा है ......... क्या बात है ......

gravatar
Nirmla Kapila said...
1 October 2009 at 5:03 AM  

बहुत खूब अपने ताऊ जी भी अलबेले हैं

gravatar
seema gupta said...
1 October 2009 at 5:32 AM  

देखो ना जब मेने टी वी चलाया तो यह छोरी बोली ""आप देख रहे है एन डी टी वी ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha

regards

gravatar
जी.के. अवधिया said...
1 October 2009 at 6:18 AM  

वाह भाटिया जी! लाजवाब लतीफे सुनाए आपने!! मजा आ गया!!!

पर कभी तो ताऊ को बख्श दिया कीजिए। :-)

gravatar
Babli said...
1 October 2009 at 6:55 AM  

एक से बढ़कर एक चुट्कुल्ले हैं! मज़ा आ गया! बहुत खूब!

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
1 October 2009 at 7:09 AM  

मजेदार राज जी,
खूब हँसाया आपने तो
वैसे एक बात है आज कल बड़े शहरों मे भिखारी सही में महलों मे रहते है सड़क वालों से माँग कर अपना घर आबाद कर रहे है....

gravatar
अन्तर सोहिल said...
1 October 2009 at 7:16 AM  

मजेदार
हा-हा-हा-हा-हा-हा

प्रणाम

gravatar
महफूज़ अली said...
1 October 2009 at 9:15 AM  

जज साहब आदालत मै
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
आर्डर..
ताऊ तो लिख
एक पिज्जा
एक भुनी हुयी मुर्गी
एक कोका कोला ठंडा
ओर एक सालाद
जज शट अप
ताऊ..
शट अप नही
थम्स अप या कोला
***************************************
एक आदमी ईद मनाने के लिये मांस लेकर जा रहा था, आसमान से चील आई ओर मांस का टुकडा ले कर वापिस आसमान मै उड गई...
वो आदमी जोर जोर से हंसने लगा..
बीबी ने पुछ मास का टुकडा तो चील ले गई ओर आप पागलो की तरह हंस रहे है?
आदमी बोला अरी बनाने की विधि तो मेरे पास ही है, बनाये गी केसे???


hahahahahahaha......... maza gaya padh ke....

gravatar
दर्पण साह "दर्शन" said...
1 October 2009 at 9:40 AM  

:) ;) :P ....

aoni pasand ka simley chun levein

gravatar
सैयद | Syed said...
1 October 2009 at 11:35 AM  

मजेदार :)

gravatar
R.K. Upadhyay said...
4 February 2013 at 9:40 AM  

Kya baat hai. . .
1 No. Bola
अबे तु जगा देना समय मै खुद देख लुगां

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:43 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय