feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

स्माईल प्लीज

.


स्माईल प्लीज ! अबे मुस्कुराने को कहां है, दांत फ़ाड कर हंस क्यो रहा है,
नमस्कार

23 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
14 November 2009 at 11:48 PM  

हम भी भूले से हंस दिये, सॉरी!!!

gravatar
महफूज़ अली said...
15 November 2009 at 3:23 AM  

hahahahahahha................

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
15 November 2009 at 4:14 AM  

माफ़ कीजिएगा, यह तो ज्यादती है।
आइटम ऐसा कि बत्तीसी दिखाने का मन हो और बन्दिश लगा रखी है कि सिर्फ़ मुस्कराना है।

हम तो खुल कर हँसेंगे। क्या कल्लोगे...? :D

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
15 November 2009 at 4:46 AM  

सॉरी ! हमें भी हंसी आ ही गयी |

gravatar
जी.के. अवधिया said...
15 November 2009 at 5:23 AM  

वाह राज जी! कहाँ कहाँ से ढूँढ लाते हैं एक से एक मसाला!

gravatar
Dr. Mahesh Sinha said...
15 November 2009 at 7:49 AM  

बच्चा है तो स्माईल प्लीज बोल सक रहा है , बड़ों की तो बत्ती गुल हो जाये :)

gravatar
mehek said...
15 November 2009 at 8:23 AM  

waah jabardast mile hai:),itani badi,khich lo jitne photo khichne hai:)

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
15 November 2009 at 10:20 AM  

JORDAAR HAI BHAATIYA JI .... PAR BACHHE KI HIMMAT TO DEKHIYE ....

gravatar
Devendra said...
15 November 2009 at 11:15 AM  

हा.. हा.. हा...
इस बात पर किसे न हंसी आ जाए!

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
15 November 2009 at 1:15 PM  

अब इत्ते बड़े मुंह पे मुस्कुराहट कहां दिखती भाई

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
15 November 2009 at 4:02 PM  

अरे बाप रे! दाँत देखकर भी इसे डर नहीं लग रहा..बडा बहादुर बच्चा है :)

gravatar
MANOJ KUMAR said...
16 November 2009 at 3:53 AM  

ये मगरमच्छी हंसी है।

gravatar
Nirmla Kapila said...
16 November 2009 at 5:40 AM  

hहा हा हा हा हा हा सुबह आज हंसी से शुरू हुई है धन्यवाद

gravatar
rohit said...
16 November 2009 at 11:15 AM  

AAP PYAAR SE KAHTE RAHIYE SMILE PLEASE, HUM MUSKURATE HI RAHENGE. WAADA RAHA.

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
16 November 2009 at 6:23 PM  

बच्चों के अंदाज निराले...स्माइल तो करनी ही पड़ेगी..बहुत बढ़िया प्रस्तुति

gravatar
शरद कोकास said...
16 November 2009 at 9:27 PM  

बच्चा है बेचारा अभी अभी तो दाँत ऊगे हैं , दिखायेगा ही ।

gravatar
ज्योति सिंह said...
17 November 2009 at 5:45 PM  

zabardast aur shaandar jise dekh apne aap hansi foot pade ,bahut khoob raj ji

gravatar
Murari Pareek said...
18 November 2009 at 5:20 AM  

ha..ha..ha.. bahut umda!!!

gravatar
पी.सी.गोदियाल said...
19 November 2009 at 5:22 AM  

भाटिया साहब, देर से इस सुन्दर प्रसंग पर नजर गई इसके लिए क्षमा चाहता हूँ ! आपने बहुत सुन्दर प्रसंग उठाया था ! अक्सर क्या है कि इतने सारे विजेट लगा लेने की वजह से साईट खुलने में भी बहुत वक्त लगता है और इच्छुक व्यक्ति कुपित हो जाता है ! साथ ही कई बार कम्पूटर भी हैंग हो जाता है ! उसी तरह जिन लोगो ने टिप्पणियों पर मोद्रेसन लगा रखे है , मैं समझता हूँ कि वह भी एक बेफालतू की चीज है ! अगर कोई गलत टिपण्णी करता भी है तो आपको भी उसे डिलीट करने का ओपसन प्राप्त है आप डिलीट कर सकते है !

gravatar
श्याम कोरी 'उदय' said...
19 November 2009 at 4:13 PM  

... क्या स्टाईल है !!!!

gravatar
irdgird said...
20 November 2009 at 11:27 AM  

घडि़याली आंसू तो मशहूर हैं लेकिन आपने तो घडि़याली हंसी भी दिखा दी।

gravatar
सत्यम न्यूज़ said...
22 November 2009 at 6:39 AM  

bahut khub....

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:32 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय