feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सुरक्षित हाथो मै

.


आप खुद ही देख ले यह सज्जन कितने सुरक्षित हाथो मै है, जुगाडिये हर देश मै मिलते है....

16 टिपण्णी:
gravatar
आलोक सिंह said...
23 February 2009 at 6:39 AM  

प्रणाम
चित्र को देख कर लगता है की एक इन्सान की जान दुसरे के हाथ में है .
पर ये ऐसा क्यों कर रहे है ,इस का कारण क्या है ?

gravatar
seema gupta said...
23 February 2009 at 6:44 AM  

" strange....."

Regards

gravatar
Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...
23 February 2009 at 6:52 AM  

पापी पेट जो ना कराये कम है।

gravatar
हिमांशु said...
23 February 2009 at 6:54 AM  

अजीब है. इस खतरे का क्या काम?

gravatar
Shikha Deepak said...
23 February 2009 at 7:09 AM  

लोग जिन्दगी को इतना सस्ता क्यूँ समझते हैं?

gravatar
कुश said...
23 February 2009 at 7:10 AM  

सही जुगाडिये है जी

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
23 February 2009 at 7:11 AM  

पापी पेट का सवाल है बाबा जो न कराये सो
महाशिवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामना .

gravatar
इष्ट देव सांकृत्यायन said...
23 February 2009 at 7:36 AM  

राज साहब
इन महोदय को यह तकनीक कहीं आपने तो नहीं बताई. क्योंकि जुगाड टेक्नोलॉजी की ओरिजिन तो भारत में ही हुई है.

gravatar
रंजन said...
23 February 2009 at 8:11 AM  

बचा रहा है या धक्का दे रहा है..:)

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
23 February 2009 at 8:36 AM  

अजी हम तो समझते थे कि जुगाडु प्रजाति सिर्फ भारत में ही पाई जाती है.

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
23 February 2009 at 8:56 AM  

वैसे दुनियां मे असली जुगाडिये हरयाणा मे पाये जाते हैं. जैसे उन्होने ट्रेक्टर क लाजवाब जुगाड ढूंढ रखा है. पर ये भाई तो लगता है हमको भी पीछे छोडने की फ़िराक मे हैं. :)

रामराम.

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
23 February 2009 at 1:12 PM  

फोटू कहाँ से खड़ा होकर लिया जी...? कमाल है :)

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
23 February 2009 at 2:20 PM  
This comment has been removed by the author.
gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
23 February 2009 at 2:20 PM  

जुगाड हर जगह मिलते है। अच्छी फोटो।

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
23 February 2009 at 4:25 PM  

सुरक्षित ..........? अगर बचा होगा तब

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:23 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय