feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

ताऊ का नया काम

.

एक बार ताऊ ने नया काम शुरू किया, इस बार उसने गधे पाल लिये, अब रोजाना जंगल मे गधॊ को चराने लेजाता ओर शाम को वापिस आता, ओर उस रास्ते मै एक थाना पडता था, ओर थाने के बिलकुल सामने एक बच्चो का स्कुल था, एक दिन ताऊ गधो को जंगल मे चरने के लिये लेजा रहा था कि एक गधे का बच्चा भाग कर स्कुल मे घुस गया, ओर ताऊ अपन लठ्ठ ले कर गधे के बच्चे के पीछे पीछे स्कुल मै घुस गया, ओर इधर उधर गधे के बच्चे को ढुढने लगा, अब ताऊ को देख कर बच्चे शोर मचाने लगे, तो मास्टर जी ने ताऊ को कहा, रे ताऊ भाग यहां से बच्चो को पढने दे, ताऊ वहा से चला आया ओर बोला ऎ मास्टर तु ही समभाल ले इब इस गधे के बच्चे को.
एक महीने के बाद ताऊ फ़िर स्कुल के सामने से गुजरा, ओर उसे अपना गधे का बच्चा याद आ गया, ओर ताऊ सीधा मास्टर के पास गया ओर बोला मास्टर जी मास्टर जी मेरा गधे का बच्चा कहां है, मास्टर जी किसी बात से पहले ही भरे बेठे थे, ताऊ को देख कर बोले वो सामने कुर्सी पे बेठा है तेरा गधे का बच्चा, ताउ ने उस तरफ़ देखा, वहां थाने दार अपनी वर्दी मे बेठा था,ताऊ तो बडा खुश हुआ ओर सीधा थाने दार के पास पहुच गया, ओर थाने दार के सर पर हाथ फ़ेर कर बोला , ओये मेरा गधे का बच्चा अब तो तु थाने दार बन गया, बस फ़िर क्या था, थाने दार उठा ओर ताऊ के दो तांगे मारी, तो ताऊ बोलेया रे गधे के बच्चे तु आदमी तो बन गया लेकिन लाट मारने की आदत नही छुटी.....

27 टिपण्णी:
gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
4 November 2008 at 5:04 AM  

बस उस दिन से ताऊ ने गधे पालना छोड़कर भैंस पालना शुरू करदी और लट्ठ लेके डकैती और लूट का धंधा शुरू कर दिया ! :)

gravatar
PN Subramanian said...
4 November 2008 at 5:15 AM  

हमने सोचा ताउ के बदले ताई होतीं तो क्या बोलती.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
4 November 2008 at 5:17 AM  

हा हा हा । आखिर ताऊ जी ने सही गहरी बात कह दी।

gravatar
अल्पना वर्मा said...
4 November 2008 at 6:07 AM  

majedaar hai..:D

gravatar
दीपक कुमार भानरे said...
4 November 2008 at 9:58 AM  

महोदय मजेदार चुटकला है .
धन्यवाद .

gravatar
अभिषेक ओझा said...
4 November 2008 at 10:17 AM  

:-)

gravatar
jayaka said...
4 November 2008 at 10:21 AM  

पढकर हंसी का फव्वारा ही छूट गया।... ताऊ की हालत तो गधे से भी बदतर हो गई...हा, हा हा।

gravatar
Zakir Ali 'Rajneesh' said...
4 November 2008 at 12:14 PM  

अरे वाह, ताऊ यहाँ भी आ धमके। वैसे मजा आ गया। शुक्रिया।

gravatar
गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...
4 November 2008 at 3:51 PM  

je ka aap to harawa die the n unako
ab koi naya kam to chahie hee tha karane ko

gravatar
Ratan Singh said...
4 November 2008 at 3:53 PM  

मजेदार

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
4 November 2008 at 4:21 PM  

kuch to unme se blog bhi likhne lage .

gravatar
जितेन्द़ भगत said...
4 November 2008 at 7:34 PM  

संता-बंता की तरह ताऊ सीरि‍ज भी खूब हॅसा रहा है। मजेदार :)

gravatar
कुन्नू सिंह said...
4 November 2008 at 7:57 PM  

हा हा..हा हसा हसा के पेट फूला दीते हैं।

हि.. हि...हा हा हू...हू...

gravatar
समीर यादव said...
4 November 2008 at 8:48 PM  

ताऊ और पुलिस पर तो और भी हास्य है...आप तो सीरीज़ प्रकाशित करिए.

gravatar
Udan Tashtari said...
5 November 2008 at 1:48 AM  

हा हा!! जब तक ताऊ को पूरे से नपवा नहीं दोगे, जब तक उनके पीछे लगे रहना. बेचारे के ७५ लाख का नुकसान करा दिया.

gravatar
भूतनाथ said...
5 November 2008 at 6:48 AM  

भाटिया साहब ! ये ताऊ ऐसे ही होते हैं ! मजा आगया !

gravatar
अनूप शुक्ल said...
6 November 2008 at 2:19 AM  

मजेदार आदतें कैसे छूटेंगी?

gravatar
गौतम राजरिशी said...
6 November 2008 at 3:09 AM  

क्या बात है...ताऊ के चर्चे सुन-सुन कर ब्लौग में झांकने की कोशिश की तो नतीजा सिफ़र रहा.सबको अनुमती नहीं है क्या जाने की?

gravatar
ranjan said...
6 November 2008 at 9:16 AM  

hahahaha

gravatar
Gyan Dutt Pandey said...
6 November 2008 at 12:57 PM  

ताऊ में कुछ खास जरूर है।
आधा ब्लॉगजगत कविता ठेलता है। शेष आधे को ताऊ ठेलता है! :)

gravatar
सागर नाहर said...
6 November 2008 at 2:18 PM  

ताऊ भी आखिर ताऊ ही ठहरा..
मजेदार.. बहुत हंसी आ रही है।
:)

gravatar
seema gupta said...
7 November 2008 at 7:45 AM  

बस फ़िर क्या था, थाने दार उठा ओर ताऊ के दो तांगे मारी, तो ताऊ बोलेया रे गधे के बच्चे तु आदमी तो बन गया लेकिन लाट मारने की आदत नही छुटी.....
" ha ha ha ha h ha ha ha hahahaha ha ha ha ha ha haha haha ha ha ha ha "

Regards

gravatar
रंजना said...
7 November 2008 at 8:01 AM  

Ha Ha Ha
badhiya.

gravatar
Mumukshh Ki Rachanain said...
7 November 2008 at 6:55 PM  

भाई राज जी,
अभी तक मामा ही बदनाम थे, अब ताऊ को भी इसी श्रेणी में खीच दिया.
अब कन्या पक्ष भी वर पक्ष के रिश्तेदारों की खिचाई कर सकेगें, ऐसा लगता है.

बराबरी का समाजवाद लाने के लिए धन्यवाद.

चन्द्र मोहन गुप्त

gravatar
Suresh Chandra Gupta said...
9 November 2008 at 3:54 PM  

बहुत मजेदार. ताऊ तो जैसा है ठीक है पर हँसी-हँसी में एक सही बात निकल आई पुलिस के बारे में.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:47 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:48 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय