feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

एक पहेली ???

.

यह है इस पहेली का सही जवाव जो समीर जी ने दिया है , इस फ़ुल का
नाम पोपाये(poppy ) है भारत मै यह हिमाल्य ओर उस के आसपास मिलता है, धन्यवाद

बुझो तो जाने???? बताईये यह क्या है ? एक फ़ल?? या एक अधखिला फ़ुल?? या कुछ ओर , ओर इस का नाम क्या है????


18 टिपण्णी:
gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
2 November 2008 at 11:22 AM  

ये फल है !

gravatar
Suresh Chandra Gupta said...
2 November 2008 at 1:01 PM  

भाई हम तो हार गए अब आप ही बताइए.

gravatar
Dineshrai Dwivedi दिनेशराय द्विवेदी said...
2 November 2008 at 5:28 PM  

जो भी है खूबसूरत बहुत है।

gravatar
Udan Tashtari said...
2 November 2008 at 5:33 PM  

ये रेड पॉपी फूल है पॉड से निकलता हुआ. हमारे यहाँ अभी रिमम्बरेन्स डे आ रहा है, उसमें इसका ही नकली फूल सब कोट में लगाते हैं सेनानियों की याद में.

gravatar
PN Subramanian said...
2 November 2008 at 5:36 PM  

ज़िंदगी में कभी देखा हो तब ना बताएँगे.

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
2 November 2008 at 5:54 PM  

बात बहुत पहले की है एक आदमी गांव से शहर घमने गया वहां उसने एक साईकिल व एक हाथी देखा | कुछ दिनों बाद सर्कस से भाग कर एक हाथी उसी गांव में आ गया गांव वालो ने पहले कभी हाथी देखा नही था सो उस आदमी को बुलाया गया जो शहर घूम कर आया था | उसने हाथी को देख कर पहचान लिया की शहर में इसे देखा था लेकिन वो यह भूल गया की हाथी केसा था और साईकिल केसी | सो उसका जबाब था या तो ये हाथी है या फ़िर साईकिल |

तो हमारा जबाब भी कुछ ऐसा ही है कि या तो ये फूल है नही तो फ़िर फल होगा |

gravatar
वर्षा said...
2 November 2008 at 6:48 PM  

क्या उड़न तश्तरी जी ने पहले सुलझा दी?

gravatar
राज भाटिय़ा said...
2 November 2008 at 10:00 PM  

PN Subramanian जनाब हम थोडी मदद करते है,यह आप कॊ पार्कॊ मै, खेतो मे आम मिल जायेगा, हां लेकिन बसंत मे शायद जब सर्दिया खत्म हो रही होती है उन दिनो, ओर आप सब को यह जरुर दिखता भी होगा, अब फ़ल है या फ़ुल यही तो मै बता नही सकता, आप ही बातये,

वर्षा जी आप से माफ़ी चाहूगां , बस आप जो चाहो जबाब दे दो समीर जी का जबाब सही है या गलत यह अन्त मै बताऊगां, अगर अभी आप की बात का जबाब देदुगा तो पहेली का मजा नही रहेगा....

gravatar
Vivek Gupta said...
2 November 2008 at 11:59 PM  

मेरे हिसाब से फूल

gravatar
Udan Tashtari said...
3 November 2008 at 2:38 AM  

वर्षा जी,

कुछ तो भरोसा कर ही लो हम पर..और सेम टू सेम जबाब दे दो आप तो. दो का प्रेशर ज्यादा पड़ेगा भाटिया जी पर..एक से संभलने वाले भी नहीं हैं ये. :)

gravatar
seema gupta said...
3 November 2008 at 6:59 AM  

Well I agree with sameer jee ofcourse it is BUD OF RED POPPY FLOWER , which Lives just one year. Grows quickly, blooms heavily, dies with first frost. Can regrow following spring if seed falls on bare ground. The bloom time is early and mid-season.

Regards

gravatar
अभिषेक ओझा said...
3 November 2008 at 9:40 AM  

मैंने तो सोचा की होतो ही खोज लूँ... लेकिन नहीं मिला... वैसे इनमे से ही कोई है:
http://images.google.com.sg/images?um=1&hl=en&client=firefox-a&rls=org.mozilla%3Aen-US%3Aofficial&q=poppy+bud&btnG=Search+Images

gravatar
मेनका said...
3 November 2008 at 10:37 AM  

:( mujhe bhi nahi malum ki ye kya hai...kudrat ka ek sundar roop..aour kya kahun ise?aap hi bata dijiye.

gravatar
mehek said...
3 November 2008 at 2:07 PM  

lagta phul hi hai sundar hai

gravatar
राज भाटिय़ा said...
3 November 2008 at 5:03 PM  

नमस्कार ,जी यह एक अध खिला फ़ुल ही है, ओर समीर जी ने बिलकुल सही बताया है, आप सब का धन्यवाद, ओर समीर जी इस पहेली के विजेता हुये.
धन्यवाद

gravatar
प्रहार - महेंद्र मिश्रा said...
5 November 2008 at 2:59 PM  

आज पहली बार आपके इस ब्लॉग को देखा . बड़ा अच्छा लगा. पहली बार यहाँ आया हूँ पहेली का उत्तर न दे सका . पहेली बेहद रोचक और जोरदार रही . विजेता और आपको बधाई . आपसे अपेक्षा करता हूँ की आप समय समय पर सभी का ऐसी पोस्टो के माध्यम से मनोरंजन कराते रहे. धन्यवाद्.

gravatar
Radhika Budhkar said...
14 November 2008 at 11:18 AM  

ab uttr milne ke bad post dekhi ,sundar ful hain

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:49 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय