feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

आओ एक खेल खेले.... लेकिन बच्चे ,महिलाये ओर कमजोर दिल इसे ना खेले Game free

.

नीचे एक खेल दिया हे जिसे हम  सब ने समय पास करने के लिये  बहुत बार खेला हे, तो चलिये फ़िर से इसे खेले, अगर आप इस गेम मे जीत जाये तो आप को मान जायेगे.....


साबधान...... इसे बच्चे , नारिया ओर कमजोर दिल  लोग ना खेले, यह चेतावनी के बावजूद भी कोई खेले तो खुद जिम्मेदार होगा, धन्यवाद.


wmode="transparent" align="middle" type="application/x-shockwave-flash" />


9 टिपण्णी:
gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
4 February 2011 at 3:51 AM  

अब आपनें निर्देश दे ही दिया है तो भला अब कैसे खेलें.

gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
4 February 2011 at 4:03 AM  

खेल लिया और हँस भी दिये।

gravatar
अन्तर सोहिल said...
4 February 2011 at 6:43 AM  

भूत के डर से मैनें नहीं खेला जी :)

प्रणाम

gravatar
mrityunjay kumar rai said...
4 February 2011 at 7:11 AM  

भाटिया जी
इमानदारी से बोल रहा हूँ , मै तो डर गया .

gravatar
G.N.SHAW said...
4 February 2011 at 1:49 PM  

KHELA AUR DARR BHI LAGA....AAP NE JO CHETAW
ANI DI WAH SAHI HAI.. MAJA AA GAYA...
आप-बीती-०६ माँ की ममता और दुलारा सर्प.

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
4 February 2011 at 4:56 PM  

अरे हम तो डररररररर गये

gravatar
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" said...
5 February 2011 at 3:05 AM  

वाह।
बहुत बढ़िया!

gravatar
Patali-The-Village said...
6 February 2011 at 5:31 AM  

खेल लिया और हँस भी दिये। बहुत बढ़िया|

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:09 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय