feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हेरान ना होये.....Game

.

अजी डरे नही, एक बार पंगा ले कर तो देखे



अजी डरे नही, एक बार पंगा ले कर तो देखे

26 टिपण्णी:
gravatar
नीरज जाट जी said...
10 October 2010 at 5:00 AM  

एक घण्टा हो गया पंगा लेते हुए,
साला खत्म ही नहीं हो रहा।
तौबा तौबा, अब नो पंगा।

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
10 October 2010 at 7:30 AM  

बड्डे पंगा लेते लेते थक गया हूँ ... कुछ खुलता नै है जी. ...

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
10 October 2010 at 7:31 AM  

बड्डे पंगा लेते लेते थक गया हूँ ... कुछ खुलता नै है जी. ...

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
10 October 2010 at 8:31 AM  

ऐसे कोई नहीं छूता पर लिख 'दीजिए पेंट गीला है हाथ ना लगाएं' तो सभी छू कर देखते हैं।

अब जब कह ही दिया गया है कि ना दबाऐं तो फिर :-)

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
10 October 2010 at 11:47 AM  

किधर चले गये ... भाटिया जी ...
पहले पंगा लेने को कहते तो फिर गायब हो जाते हो ... हा हा ... बहुत खूब ...

gravatar
निर्मला कपिला said...
10 October 2010 at 2:49 PM  

इस से पंगा लेने वाले तो हर जगह हैं देखिये कितने जनों ने पंगा ले लिया मगर हाथ क्या आया? कुछ नही। हम ने तो छोद दिया। आभार , शुभकामनायें।

gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
10 October 2010 at 4:00 PM  

छोड़ दिया।

gravatar
शरद कोकास said...
10 October 2010 at 8:52 PM  

हाहाहा ...

gravatar
Gourav Agrawal said...
12 October 2010 at 4:13 AM  

बचाओSSSSSSSSSSSSSSSSSSSSSSSSS

gravatar
Gourav Agrawal said...
12 October 2010 at 4:15 AM  

इसके अन्दर भूत है :))

gravatar
JHAROKHA said...
12 October 2010 at 8:33 AM  

panga lene ko bhi kah rahe hai ,aur chhoone se bhi mana kar rahe hain .kya baat hai;.------
bahut khoob
poonam

gravatar
माधव( Madhav) said...
12 October 2010 at 2:58 PM  

ajeeb hai ye

gravatar
anshumala said...
12 October 2010 at 7:29 PM  

ऊफ कहा पंगा ले बैठी यहाँ से भगाने में ही भलाई है |

gravatar
देवेन्द्र पाण्डेय said...
13 October 2010 at 5:45 PM  

स्टॉप क्लिकिंग तक पंगा लिया..अब कोई रूकने को कहे तो छोड़ देते हैं वरना..

gravatar
मनोज कुमार said...
13 October 2010 at 6:53 PM  

मज़ेदार टाइम पास!

gravatar
Ashok Pandey said...
14 October 2010 at 7:25 AM  

आप कहते हैं तो डर किस बात की :) लेकिन अभी तो कुछ नहीं दिखा रहा, बाद में आकर लेते हैं पंगा :)

gravatar
BrijmohanShrivastava said...
16 October 2010 at 2:51 PM  

वैसे ही चलना दूभर था अंधियारे में
तुमने और घुमाव ला दिये गलियारे में

gravatar
Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...
17 October 2010 at 7:32 PM  

विजय दशमी की शुभ कामनाएँ!

gravatar
Dr.Bhawna said...
18 October 2010 at 3:09 AM  

kamal ho gaya ye to...thaka dala

gravatar
Manoj K said...
18 October 2010 at 6:48 AM  

पूरा एक रौंद कर लिया.. मज़ा आया

gravatar
Coral said...
18 October 2010 at 3:28 PM  

अब और कहीं पंगा नहीं लेंगे ... कान पकड़ते हैं ...

gravatar
एस.एम.मासूम said...
23 October 2010 at 8:30 PM  

अब तो ले लिया पंगा , इज्ज़त का सवाल है, पीठ नहीं दिखा सकता....ओह नो चलो भाग चलें , कोई देख नहीं रहा...हा हा हा

gravatar
Alok Mohan said...
26 October 2010 at 6:16 PM  

bor ho gaya ji khatam hi nhi hota
ab nhi panga luga

gravatar
क्षितिजा .... said...
27 October 2010 at 9:03 AM  

hahahaaa... where the end to it ... very refreshing ... thanks for sharing

gravatar
ZEAL said...
6 November 2010 at 10:20 AM  

.

मैंने भी पंगा लिया। प्रेस करते ही गुलाम अली की ग़ज़ल बजने लगी।

.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:14 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय