feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

चित्र भी बोलते है ....

.


आप ही बताये क्या चित्र नही बोलते?

16 टिपण्णी:
gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
13 September 2010 at 6:26 PM  

बोल कहां रहे है स्पीक रहे है

gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
13 September 2010 at 7:47 PM  

वाह रे वाह।

gravatar
मनोज कुमार said...
13 September 2010 at 8:17 PM  

ज़रूर स्पीकते हैं।
बहुत कुछ स्पीकते हैं।

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
शैशव, “मनोज” पर, आचार्य परशुराम राय की कविता पढिए!

gravatar
डॉ. मोनिका शर्मा said...
14 September 2010 at 6:55 AM  

जी हाँ चित्र बोलते हैं ........
और हकीकत दिखाते है।
जैसा की आपकी पोस्ट में दिख रहा है ...
इस पोस्ट के लिए आभार

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
14 September 2010 at 11:13 AM  

बिल्कुल बोल रहा है भाटिया जी .... खुल कर स्पीक रहा है ...

gravatar
निर्मला कपिला said...
14 September 2010 at 1:26 PM  

स्पीक रहे हैं तभी तो हम टीप रहे हैं। शुभकामनायें।

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
14 September 2010 at 3:22 PM  

यह तो चीख रहा है :-)

gravatar
नीरज गोस्वामी said...
16 September 2010 at 8:38 AM  

ये चित्र बोल नहीं रहे...चिल्ला रहे हैं और हम हंस रहे हैं...वाह जी वाह..
नीरज

gravatar
ज्योति सिंह said...
20 September 2010 at 7:28 PM  

bilkul bolte hai ,aur bol bhi rahe hai .

gravatar
शरद कोकास said...
20 September 2010 at 9:50 PM  

जी बिलकुल see लिया मतलब देख लिया ।

gravatar
JHAROKHA said...
30 September 2010 at 12:00 PM  

ji bahuthi sundar lage aapke bolate hue ye sbhi chitra,
poonam

gravatar
Udan Tashtari said...
1 October 2010 at 2:20 AM  

बोल क्या स्पीक रहे हैं जोरों से...

gravatar
VIJAY KUMAR VERMA said...
2 October 2010 at 7:53 PM  

aapne bilkul theek kaha chitra bolte bhee hai,,,,achchhee prstuti ke liye badhai

gravatar
आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...
3 October 2010 at 4:52 AM  

बोलिंग!
हा हा हा.....
आशीष
--
प्रायश्चित

gravatar
G Vishwanath said...
5 October 2010 at 12:24 PM  

मजेदार!

मेरे घर के पास एक नई दूकान खुली थी।
बाहर बोर्ड लगा था "Rao and sons - Inferior Decorators"

एक और घर है मेरे घर से कुछ ही दूर
गेट पर संदेश है "Beware of Coconuts"

पढकर हम हैरान रह गए
पडोसी ने समझाया
बात यह है के कुछ सप्ताह पहले पेड से एक नारियल रास्ते पर चलने वाले पर गिरने वाला ही था।
पेड घर के compound के अन्दर था तो जिम्मेदारी घरवाले की ही थी।
सो उसने यह बोर्ड लगाकर अपनी जिम्मेदारी से हाथ धो लिया!

बेंगळूरु में कभी Auto Rickshaw पर बोर्ड लगता है "WON USE"
मतलब ड्राइवर गाडी अपनी निजी काम के लिए उपयोग कर रहा है और गाडी किराए के लिए फ़िलहाल उबलब्ध नहीं है।
यहाँ के कन्नड ड्राइवर लोग own को "वोन" कहते हैं। उच्चारण ही ऐसी है, जैसे उत्तर भारत में station के लिए "टेसन" कहते हैं


शुभकामनाएं
जी विश्वनाथ

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:15 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय