feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

नेनॊं महंगी या रिक्क्षा ? आप खुद देख ले...

.

आज मै Ebay.de  पर युही घुमता घुमता एक जगह पहुचां तो देखा भी भारतिया रिक्क्षा भी बिकता है जर्मनी मै, तो मुझे एक रिक्क्षा बहुत पसंद आया, मैने उसे लेने की सोची...... लेकिन भारतिया खुन  फ़िर से अड गया, मेरी बीबी ओर बच्चो ने मुझे मना कर दिया कि रिक्क्षा अगर लाये तो ..... आप को घर से बाहर कर देगे.......वेसे हम ने इंटर्लाकेन( स्विट्रजर्लेंड मै पुरा एक घंटा रिक्क्षा चलाई...चित्र आप ने देख ही लिया ऊपर, मेरे साथ पुना के आई आई टी इनंजिन्यर भी बेठे है, सभी के पेरो मै पेडल थे, ओर बारी बारी से हम सब ने इसे चलाया, किराया ना पुछे, एक घंटे के ७०€ यानि ४२०० रुपये, लेकिन जो मजा आया उस के सामने यह कुछ नही लगे.

तो अब आईये आप को दिखाये की हमारी नेनॊ से मंहगी मिलती है यहां रिक्क्षा जिसे  सिर्फ़ शोक के लिये ही चलाया जाता है, कुछ खास जगह पर ही, चलाओ भी खुद, यहां Ebay.de मे मैने आज एक रिक्क्षा देखी ७,५५५,०० € की, यानि भारतिया मुद्रा मै उस की किमत होगी ४,५३३००,०० रुपये पुरे चार लाख ५३ हजार तीन सॊ..अगर आप देखना चाहे तो यहां देखे या फ़िर Ebay मै जा कर यह ना० दे....Artikelnummer:140370668859, ओर देखे नेनॊ से मंहगी रिक्क्षा...

24 टिपण्णी:
gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
22 August 2010 at 6:28 PM  

ले लो जी यह रिक्शा . बिना पेट्रोल के चलेगा .

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
22 August 2010 at 6:40 PM  

ये तो बहुत सही जानकारी दी आपने. इस तरह के प्रयास थोडे बडे स्तर पर हों तो पर्यावरण को बचाने में काफ़ी हद तक मदद मिल सकती है.

रामराम

gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
22 August 2010 at 7:50 PM  

बताइये, यहाँ के रिक्शे भी इतने में बिके तो रिक्शे वाले बेच कर निकल लें।

gravatar
रंजन said...
23 August 2010 at 4:58 AM  

स्विफ्ट लेलो.. जी.. छोडो रिक्से को..

gravatar
अन्तर सोहिल said...
23 August 2010 at 8:25 AM  

इस रिक्शा का नाम होना चाहिये, भारत
कोई आगे पैडल मारेगा तो कोई ब्रेक लगा देगा
कोई स्टीयरिंग दायें घुमायेगा तो कोई बायें

प्रणाम जी

gravatar
अन्तर सोहिल said...
23 August 2010 at 8:27 AM  

जो पीछे सुरक्षित ऊंची सीट पर बैठे हैं, उन के पास छत भी है और जो बेचारा छोटा है, आगे है, उसे धूप-बारिश से बचाव के लिये छत भी नहीं और ना उसके पास पैडल है ना स्टीयरिंग

है ना भारत की प्रतिमूर्ति ये रिक्शा?

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
23 August 2010 at 12:04 PM  

बड़ा जोरदार है ये नेनो रिक्शा ....

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
23 August 2010 at 3:00 PM  

क्या बात है .... एक्सपोर्ट का धन्दा चालू कर देना चाहिए भाटिया जी ....
मजेदार .....

gravatar
डॉ महेश सिन्हा said...
23 August 2010 at 5:09 PM  

सुंदर रिक्शा है , ले लीजिए घर से निकाले जाने पर काम आएगा :)

gravatar
वन्दना अवस्थी दुबे said...
24 August 2010 at 4:53 PM  

रक्षा बंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ.

gravatar
ज्योति सिंह said...
25 August 2010 at 4:27 PM  

rakshabandhan ki badhai ,naam rikasha kimat gaadi ki ye bhi ajeeb aur anokhi si baat lagi magar sundar jaankaari rahi .

gravatar
hem pandey said...
26 August 2010 at 6:04 AM  

यह चार पहियों वाली रिक्शा पहली बार चित्र में देखी.धन्यवाद.

gravatar
सत्यप्रकाश पाण्डेय said...
26 August 2010 at 8:44 AM  

यह रिक्शा तो बड़ा अच्छा है

gravatar
girish pankaj said...
29 August 2010 at 7:42 PM  

vaah mazaa aa gaya rikshe ki savaree ke baare mey parh kar.. aap badaa kaam kar rahe hai, ki ham logon ko vahaan kee khas-khas jankariyaan dete rahate hai mai ise bhi desh sevaa manata hoo.

gravatar
ओशो रजनीश said...
30 August 2010 at 8:40 PM  

राज जी,
ऐसे बहुत सी चीजे है जिनका विज्ञानं आजतक जवाब नहीं ढूंड पाया है, इसलिए आप शायद सहमत न हो लेकिन यदि आप चाहे तो मेंरे कुछ सवालो के जवाब आप दे दीजिये विज्ञानं की द्रष्टि से .... आपके जवाब का इंतजार रहेगा

gravatar
राम त्यागी said...
1 September 2010 at 3:45 AM  

कहाँ कहाँ से आप भी खजाना खोज के लाते हैं :) किराया काफी महंगा था जनाब ....

gravatar
RAJWANT RAJ said...
1 September 2010 at 7:43 PM  

raj saheb
aapki post smesha gyan vrdhak hoti hai thanks .

gravatar
डॉ. हरदीप संधु said...
8 September 2010 at 5:21 AM  

सुंदर नेनो रिक्शा है
चले बिना पेट्रोल के .....
क्या बात है ....

gravatar
सुमित प्रताप सिंह said...
8 September 2010 at 6:18 AM  

Raj ji! vahaan chalaya to chalaya kintu Bhaarat aakar riksha chalaane ka aanand na len varna bechare garib rikshe walo ke man roji-roti ka sankat mandraane lagega...

gravatar
JHAROKHA said...
8 September 2010 at 6:01 PM  

Adarneey Raj sir,
Apne soochna achchhee dee----aur use prastut karne ka dhang bhee bahut sundar hai.
hardik shubhkamnayen.
Poonam

gravatar
VIJAY KUMAR VERMA said...
9 September 2010 at 8:11 AM  

raj gee aapne bahut hee mahatavpurn jankari dee...jo kisi ko bhee sochne par majboor kar sakti hai...shandar parstuti ke liye badhai

gravatar
निर्मला कपिला said...
10 September 2010 at 4:07 PM  

हमारे यहाँ तो रिक्शा वाला कभी ज़िन्दगी भर इतने पैसे नही कमायेगा। अच्छी जानकारी है। शुभकामनायें

gravatar
Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...
17 October 2010 at 7:31 PM  

वाह, गज़ब का वाहन है!

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:15 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय