feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

कया हमारे देश के महान नेता भी ऎसा कर सकते है???

.

भत्ता विवाद में फँसे ब्रितानी मंत्री

ब्रिटेन की नई गठबंधन सरकार अपने पहली ही परीक्षा में उस समय पिछड़ गई, जब उसके सहायक वित्तमंत्री को सांसद भत्ते के दुरुपयोग के लिए माफ़ी मांगनी पड़ी. पुरी खबर के लिये यहां चटका लगाये जी

18 टिपण्णी:
gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
29 May 2010 at 6:50 PM  

वे माफी क्यों मांगेंगे, यहाँ तो दुरुपयोग करना विशेषाधिकार है।

gravatar
aarya said...
29 May 2010 at 6:52 PM  

सादर वन्दे !
इन्हें भारत भेज दीजिये यहाँ कुछ तथाकथित मानवतावादियों को बैठा बिठाया नेता मिल जायेगा और कानून वालों को एक नया उदहारण |
रत्नेश त्रिपाठी

gravatar
माधव said...
29 May 2010 at 7:51 PM  

never

gravatar
भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...
29 May 2010 at 8:01 PM  

are in ko akal nahi hai.. yahan bhejiye sab theek ho jaayegaa.....

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
29 May 2010 at 8:10 PM  

मालिक भला किस से और क्यूँ माफी माँगेगा......माफी तो हमेशा नौकरों को ही मांगनी पडती है...

gravatar
डॉ महेश सिन्हा said...
30 May 2010 at 9:09 AM  

माले मुफ्त दिले बेरहम

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
30 May 2010 at 12:15 PM  

माफी ... वो क्या होता है ... कांगेस में अब जा कर १९८४ दंगों की माफी माँगी है ... फिर इतनी छोटी बात पर हमारे नेता .... ये तो उनकी बेजात्ती खराब करने वाली बात है ...

gravatar
'उदय' said...
30 May 2010 at 1:36 PM  

...अब क्या कहें !!!

gravatar
काजल कुमार Kajal Kumar said...
30 May 2010 at 2:45 PM  

भारत में माफ़ी !
डेढ़ सौ से ज़्यादा यात्री रेल के साथ उड़ गए...रेलमंत्री अपने ख़िलाफ़ राजनैतिक साजिश बताती घूम रही है...

gravatar
Udan Tashtari said...
30 May 2010 at 3:00 PM  

काश!! ऐसा कभी अपने यहाँ हो पाये!

gravatar
आचार्य जी said...
1 June 2010 at 5:51 AM  

आईये, मन की शांति का उपाय धारण करें!
आचार्य जी

gravatar
अक्षिता (पाखी) said...
1 June 2010 at 6:56 AM  

हूँ, यही तो अंतर है...

_________________
'पाखी की दुनिया' में ' अंडमान में आया भूकंप'

gravatar
hem pandey said...
2 June 2010 at 6:29 PM  

चलो तसल्ली हुई कि ब्रिटेन में भी भ्रष्टाचार है. फर्क ये है कि वे स्वीकार कर लेते हैं और हम साफ़ दिखने पर भे इसे बदनाम करने की साजिश करार देते हैं.

gravatar
ज्योति सिंह said...
4 June 2010 at 12:16 PM  

sabki salah me meri bhi salaah shamil hai .

gravatar
शरद कोकास said...
4 June 2010 at 9:04 PM  

हम भी कभी उनके गुलाम थे ।

gravatar
आचार्य जी said...
5 June 2010 at 10:01 AM  

आईये जानें .... मैं कौन हूं!

आचार्य जी

gravatar
Vivek Jain said...
7 June 2010 at 9:40 PM  

i never hapeens in india! but the realty is that we chose our ministers in india and because majority of us are corrupt, So they are

Vivj2000.blogspot.com

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:20 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय