feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

मासूम बीबी.....

.

एक दंपत्ति की शादी को साठ वर्ष हो चुके थे। उनकी आपसी समझ इतनी अच्छी थी कि इन साठ वर्षों में उनमें कभी झगड़ा तक नहीं हुआ। वे एक दूजे से कभी कुछ भी छिपाते नहीं थे। हां, पत्नी के पास उसके मायके से लाया हुआ एक डब्बा था जो उसने अपने पति के सामने कभी खोला नहीं था। उस डब्बे में क्या है वह नहीं जानता था। कभी उसने जानने की कोशिश भी की तो पत्नी ने यह कह कर टाल दिया कि सही समय आने पर बता दूंगी। 

आखिर एक दिन बुढ़िया बहुत बीमार हो गई और उसके बचने की आशा न रही। उसके पति को तभी खयाल आया कि उस डिब्बे का रहस्य जाना जाये। बुढ़िया बताने को राजी हो गई। पति ने जब उस डिब्बे को खोला तो उसमें हाथ से बुने हुये दो रूमाल और 50,000 रूपये निकले। उसने पत्नी से पूछा, यह सब क्या है। पत्नी ने बताया कि जब उसकी शादी हुई थी तो उसकी दादी मां ने उससे कहा था कि ससुराल में कभी किसी से झगड़ना नहीं । यदि कभी किसी पर क्रोध आये तो अपने हाथ से एक रूमाल बुनना और इस डिब्बे में रखना। 
बूढ़े की आंखों में यह सोचकर खुशी के मारे आंसू आ गये कि उसकी पत्नी को साठ वर्षों के लम्बे वैवाहिक जीवन के दौरान सिर्फ दो बार ही क्रोध आया था । उसे अपनी पत्नी पर सचमुच गर्व हुआ। 
खुद को संभाल कर उसने रूपयों के बारे में पूछा । इतनी बड़ी रकम तो उसने अपनी पत्नी को कभी दी ही नहीं थी, फिर ये कहां से आये? 


''रूपये! वे तो मैंने रूमाल बेच बेच कर इकठ्ठे किये हैं ।'' पत्नी ने मासूमियत से जवाब दिया।

23 टिपण्णी:
gravatar
दिगम्बर नासवा said...
21 April 2010 at 3:44 PM  

Mazaa aa gaya Bhaatiya ji ... masoom se sawaal ka itna masoom jawaab ... ha ha ..

gravatar
M VERMA said...
21 April 2010 at 3:46 PM  

बहुत खूब
बहुत सुन्दर
मजेदार
त्रासद भी

gravatar
दिलीप said...
21 April 2010 at 4:00 PM  

badhiya hamne ye kissa suna to tha par thoda hat ke...
http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

gravatar
डॉ महेश सिन्हा said...
21 April 2010 at 4:58 PM  

:)

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
21 April 2010 at 5:35 PM  

बहुत बढिया। सदके जाया जा सकता है ऐसी मासूमियत पर।

gravatar
ललित शर्मा said...
21 April 2010 at 5:52 PM  

हा हा हा
राज जी अज्ज ते कमाल कर दित्ता जी।

मौजां ही मौंजा

gravatar
श्याम कोरी 'उदय' said...
21 April 2010 at 6:11 PM  

...bahut sundar, prabhaavashaalee, prasanshaneey kahaani ...kamaal-dhamaal ... bahut bahut badhaai !!!

gravatar
श्याम कोरी 'उदय' said...
21 April 2010 at 6:12 PM  

...adbhut abhivyakti !!!

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
21 April 2010 at 6:16 PM  

वाह ,गजब.

gravatar
Shobhana said...
21 April 2010 at 6:27 PM  

jab masumiyat aisi hai to ?age kya kahna ?

gravatar
डॉ टी एस दराल said...
21 April 2010 at 6:32 PM  

हा हा हा ! बहुत बढ़िया तरीका बताया है जी , वैभव पूर्ण सुख अर्जित करने का ।

gravatar
anjana said...
21 April 2010 at 7:31 PM  

:-)

gravatar
Udan Tashtari said...
21 April 2010 at 8:05 PM  

हा हा!!

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
21 April 2010 at 9:21 PM  

हा हा हा..ये मासूमियत :-)

gravatar
परमजीत बाली said...
21 April 2010 at 9:50 PM  

bahut khoob!!

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
22 April 2010 at 6:42 AM  

बहुत ही गजब.:)

रामराम.

gravatar
honesty project democracy said...
22 April 2010 at 7:40 AM  

समाज में गिरते चारित्रिक पतन और आपसी रिश्तों की दुःख भरी परिस्थितियों में इस तरह के प्रेरक प्रसंग युक्त ब्लॉग की अति आवश्यकता है / आप के इस महान कार्य के लिए एक बार आपका फिर धन्यवाद /

gravatar
अन्तर सोहिल said...
22 April 2010 at 8:48 AM  

मजेदार

प्रणाम स्वीकार करें

gravatar
महफूज़ अली said...
22 April 2010 at 9:44 AM  

हा हा हा हा हा .... बहुत ही प्यारी मासूमियत....

gravatar
अभिषेक ओझा said...
23 April 2010 at 9:53 PM  

oh !

gravatar
Swapnil Bhartiya said...
28 April 2010 at 6:01 PM  

हा हा। बहुत बढिया।

gravatar
Shah Nawaz said...
16 September 2013 at 7:45 AM  

हा हा हा.... ज़बरदस्त राज भाटिया जी...

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:23 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय