feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

एक पहेली बूझॊ तो जाने

.

यह जिन्दगी के मेले बहुत अजीब होते है, बेसे तो यह पोस्ट मैने पराया देश ब्लांग पर ही डालनी थी, लेकिन वहां अभी थोडा उदासी का माहोल है, फ़िर इसे "मुझे शिकायत हे." पर डालने की सोची तो भईया वहां तो पुलिस की नाकेबंदी लगी हुयी है...क्या पुलिस को बुलाऊं    
तो सोचा चलो आज  पहेली भी यही पुछ लेते है, पहेली कुछ यु ही कि आज हमे सब डबल डबल दिख रहे है, यानि अब आप ही देखे यह घटना आज के दिन ही घटी थी लेकिन २२ साल पहले, ११ मार्च को घटी तो हमे आज २२ नजर आ रहे है, इस घटना का जिकर पराया देश पर भी हो चुका है कभी ना कभी, इस घटना से पहले हम अकेले थे, अब धीरे धीरे चार हो गये, इस तरीख को हम जिन्दगी मै पहली बार किसी निरिह जानवर पर बेठे थे, तो बताईये वो निरिह जानवर कोन था, ओर वो घटना कोन सी थी, जिस ने हमारी जिन्दगी ही बदल दी??

24 टिपण्णी:
gravatar
डॉ महेश सिन्हा said...
11 March 2010 at 1:07 PM  

बधाई हो अश्व रोहण के लिए :)

gravatar
अन्तर सोहिल said...
11 March 2010 at 1:10 PM  

मुबारकबाद स्वीकार करें जी

gravatar
अन्तर सोहिल said...
11 March 2010 at 1:11 PM  

आज आपकी सालगिरह है जी
हार्दिक शुभकामनायें

gravatar
अन्तर सोहिल said...
11 March 2010 at 1:14 PM  

सालगिरह की खुशी में आपने 3-4 बीयर पी ली हैं जी सुबह-सुबह
इसलिये आपको 11 के 22 दिख रहे हैं
यानि आप 1 थे फिर 1 और से जुडे
फिर 2 फूल खिले और
हम 2 हमारे 2 हो गये

प्रणाम और आप बडों को चरण-स्पर्श छोटों को प्यार

gravatar
अन्तर सोहिल said...
11 March 2010 at 1:17 PM  

बीयर वाली बात के लिये क्षमा कर दीजियेगा जी, जल्दबाजी में लिख दिया है हंसाने के लिये
निरीह जानवर तो मादा अश्व ही था (थी)

नमस्कार

gravatar
अन्तर सोहिल said...
11 March 2010 at 1:18 PM  

इतनी बडी बात और छोटी-छोटी बातें पर :-)

gravatar
पी.सी.गोदियाल said...
11 March 2010 at 1:33 PM  

भाटिया साहब , मैं तो अपने ही तजुर्बे के हिसाब से बताउंगा क्योंकिं मेरे वक्त पर घोड़ो का भी अकाल पड़ गया था, इसलिए खच्चर पे बिठाया गया था :)

gravatar
ज्योति सिंह said...
11 March 2010 at 1:33 PM  

antar ji ki baat bahut achchhi lagi ,aaj meri bahan ka bhi janm din hai aur aapka bhi ,aapko bahut bahut badhai saalgirah ki .

gravatar
पी.सी.गोदियाल said...
11 March 2010 at 1:36 PM  

हाँ, आपको और भाभी जी को शादी की साल गिरह की बहुत बहुत शुभकामनाये !

gravatar
Arvind Mishra said...
11 March 2010 at 1:39 PM  

हमें तीन पांच भले ही अच्छा नहीं लगे मगर दो से चार तो भला लगे है
सालगिरह की बहुत बहुत बधाई,शुभकामनाएं !

gravatar
Udan Tashtari said...
11 March 2010 at 1:47 PM  

शादी की सालगिरह की बहुत बहुत बधाई हो...निरिह जानवर तो घोड़ी ही रही होगी. :)

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
11 March 2010 at 2:02 PM  

भाटिया जी, वैवाहिक वर्षगांठ की बहुत बहुत बधाई.....अब वो निरीह जानवर अमूमन तो घोडी ही होती है लेकिन सुना है कि कहीं कहीं मजबूरी में गधे या खच्चर से भी काम चला लिया जाता है। उम्मीद करते हैं कि आपके साथ ऎसी कोई मजबूरी नहीं हुई होगी :-)

gravatar
shikha varshney said...
11 March 2010 at 2:05 PM  

शादी की सालगिरह की बहुत बहुत बधाई हो

gravatar
जी.के. अवधिया said...
11 March 2010 at 2:08 PM  

बधाई हो!

gravatar
Suman said...
11 March 2010 at 2:43 PM  

nice

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
11 March 2010 at 3:05 PM  

शादी की आप को और भाभी दोनों कोसालगिरह मुबारक हो!

gravatar
M VERMA said...
11 March 2010 at 3:27 PM  

वह घटना थी --------------
मुबारक हो ----
और उस निरीह जानवर को भी मुबारक हो --------

gravatar
संगीता पुरी said...
12 March 2010 at 1:45 AM  

आपको और भाभी जी को बहुत बधाइयां !!

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
12 March 2010 at 3:12 AM  

शादी की बहुत बहुत शुभकामना राज जी यहाँ से तो जीवन की असली शुरुआत हुई....बधाई स्वीकारें

gravatar
अजय कुमार झा said...
12 March 2010 at 4:04 AM  

मैं समझ गया ठीक ठीक .....और बधाई लीजीए ....किस बात की लो कल्लो बात ..मैं समझ गया ....आप समझ गए ....फ़िर ये राज क्यों खोलना ..निरीह जानवर ....था .....डायनासोर ...आपकी सवारी के बाद से गायब है ????
अजय कुमार झा

gravatar
Rekhaa Prahalad said...
12 March 2010 at 4:07 AM  

शादी की सालगिरह की बहुत बहुत बधाई हो!

gravatar
seema gupta said...
12 March 2010 at 4:22 AM  

शादी की सालगिरह की बहुत बहुत बधाई .

regards

gravatar
निर्मला कपिला said...
12 March 2010 at 2:42 PM  

वाह खुद को निरीह प्राणी कहने का अंदाज़ अच्छा है मगर आप गलतफहमी मे मत रहें हमारी भाभी जी बेचारे निरीह प्राणी हैं किसी ब्लागर के साथ रह रही हैं और आप उसकी सौत इस लैपटाप के मुँह से ही उनके साथ बीन्साफी कर रहे हैं। आपको व भाभी जी को सालगिरह की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें । ये परिवार ऐसे ही हंसता खेलता रहे।

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:25 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय