feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

अगर मेरे साथ लेडिज ना होती

.

अभी अभी टी २० (T 20) का मेच हारने के बाद....
धोनी की मां ने कहा बेटा जा बाजार से मुझे दही ला दे,
धोनी ने सोचा अगर मै ऎसे बाजार गय तो लोग मुझे मारेगे?
ओर धोनी एक बुरका पहन कर दही लेने बाजार चला गया..
अभी धोनी बाजार मै पहुचा ही था कि उसे एक अन्य बुरके वाली ओरत की आवाज आई
तुम धोनी ही हो ना ? धोनी ने डर कर कहा नही तो...
उधर से आवाज आई डरो नही, मै युवराज हुं
******************************************************************
शेतान लोगो को काम बता रहा है...
जेक .. तुम अमेरिका मै जा कर अपना काम करो,
जुली .. तुम जर्मन मे जा कर अपना काम करो.
पीटर .. त्म जा कर भारत मै अपना काम करो..
बीच मे ही जेक शेतान से बोला... लेकिन पाकिस्तान किस को भेजना है ?
शेतान किसी को नही, वहां सरदारी तुम सब का काम बाखुबी कर रहा है.
***********************************************************************
अलबेला जी लखनउ के एक बडॆ होटल मे ठहरे, रात को शो कर के आये तो भुख से बुरा हाल था.
नीचे हाल मै गये ओर वेटर को मुर्गे का आर्डर दिया...
वेटर ... सर कोन सा मुर्गा लेगे.. ईटालियन, चाईनीस,फ़्रेंच या फ़िर स्पेनिश ?
अलबेला साहब, अबे कोई सा भी ले आ मेने कोन सा उस से बात करनी है
***********************************************************************************
बात बहुत पुरानी है.
एक बार ताऊ अपनी बकरी ले कर बस मै चढ गया.
अब लोगो ने काफ़ी समझाया, लेकिन ताऊ नही समझा, तो लोगो ने बहुत पीटा...
ओर ताऊ को नीचे उतार दिया, ताऊ बोला ओए आज बच गये अगर मेरे साथ लेडिज ना होती तो आज तुम सब की खेर नही थी, तो तुम्हे बताता.
**************************************************************************

32 टिपण्णी:
gravatar
कुश said...
16 July 2009 at 4:59 AM  

हा हा हा.. लेडिज वाला जोक तो मस्त था...

gravatar
काशिफ़ आरिफ़/Kashif Arif said...
16 July 2009 at 5:16 AM  

ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म हंसने का दिल कर रहा है

gravatar
seema gupta said...
16 July 2009 at 5:37 AM  

ताऊ जी और लेडिज हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा

regards

gravatar
रंजन said...
16 July 2009 at 5:49 AM  

हा हा हा..

gravatar
Nirmla Kapila said...
16 July 2009 at 6:06 AM  

हा हा हा तो ताऊ जी लेडीज़ के साथ घूमते हैं अब पता चला कि वो लोगों को पहेलियों मे क्यों उल्झाये रखते हैं बहुत खूब्

gravatar
P.N. Subramanian said...
16 July 2009 at 6:39 AM  

सुबह सुबह बड़ा मजा आया. आभार

gravatar
महामंत्री - तस्लीम said...
16 July 2009 at 7:12 AM  

बहुत बढिया।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

gravatar
आलोक सिंह said...
16 July 2009 at 7:54 AM  

मजेदार , बड़ा अच्छा लगा पढ़ कर ..

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
16 July 2009 at 8:20 AM  

वाह आनंद आया..पर हमारी वो लेडीज (बकरी) है कहां?:)

रामराम.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
16 July 2009 at 8:57 AM  

हमारा ताऊ हमेशा हीट रहता है।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
16 July 2009 at 9:11 AM  

अगर मेरे साथ लेडिज ना होती तो आज तुम सब की खेर नही थी!!

हा हा हा हा!!!!! ताऊ सचमुच औरतों की बहुत ईज्जत करे है!

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
16 July 2009 at 11:35 AM  

He...he,....he..... sachmuch Taau shareef aadmi hain.... lajawaab

gravatar
Babli said...
16 July 2009 at 12:58 PM  

वाह बड़ा ही मज़ेदार लगा!

gravatar
anil said...
16 July 2009 at 1:56 PM  

वाह जी वाह मजेदार अब पता चला ताऊ जी हमेशा लेडिस साथ में क्यों रखते हैं .

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
16 July 2009 at 3:34 PM  

vaah! वाह! सचमुच हँसी आ गयी। मजेदार।

gravatar
hem pandey said...
16 July 2009 at 5:16 PM  

धोनी वाले चुटकुले पर खूब ठहाके लगाए.

gravatar
विवेक सिंह said...
16 July 2009 at 5:57 PM  

ताऊ की लेडीज को वापस तो करिये .

लूट मची है क्या :)

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
16 July 2009 at 7:03 PM  

बहुत बढिया।

gravatar
दिलीप कवठेकर said...
16 July 2009 at 7:15 PM  

अब इतनी सारी लेडिज़ें (?) होंगी तो इब क्या होगा?

gravatar
‘नज़र’ said...
16 July 2009 at 7:44 PM  

बहुत बढ़िया जोकस हैं, अब दो चार लोगों को सुनाके रहेंगे।
---
आप सादर आमंत्रित हैं:
विज्ञान । HASH OUT SCIENCE

gravatar
आकांक्षा~Akanksha said...
17 July 2009 at 2:50 PM  

Yahi to ladies ki vidambna hai. Unke bina Jokes bhi nahin pure hote.

gravatar
BrijmohanShrivastava said...
18 July 2009 at 6:36 AM  

प्रिय भाटिया जी /आपका नम्बर दो का चुटकुला नम्बर दो का ही है और चुटकुला नहीं बहुत बड़ा व्यंग्य है

gravatar
jamos jhalla said...
18 July 2009 at 6:42 PM  

jhalle ki bhi haa haa haa haa haa haaa haaaa haaaa haaaa haaaa haaaaa haaaaa haaaaa haaaaa
jhallevichar.blogspot.com

gravatar
Dr.T.S. Daral said...
20 July 2009 at 3:00 AM  

भाई बहुत खूब, मज़ा आ गया. अगर मेरे साथ लेडीस न होती--वाकई मजेदार
आखिर इतने चुटकले आप लाते कहाँ से हैं?

gravatar
Udan Tashtari said...
21 July 2009 at 4:45 PM  

वाह मजेदार..............

gravatar
प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...
22 July 2009 at 5:27 AM  

chutkule bahut hi achchhe lage....dhnyawaad hasaane ke liye..

gravatar
Murari Pareek said...
22 July 2009 at 1:01 PM  

ha..haa.. sabhi mast mast mast jokes hain ji!!

gravatar
जगदीश त्रिपाठी said...
23 July 2009 at 3:46 PM  

हंसा के रख दिया भाई भाटिया जी।

gravatar
kumar Dheeraj said...
28 July 2009 at 9:16 AM  

बिल्कुल सही आकलन आपने किया है । खासकर धोनी और युवराज के चुटकुले तो शानदार है । आभार

gravatar
Vijay Kumar Sappatti said...
8 August 2009 at 7:19 AM  

waah sir ji , waah , maza aa gaya padhkar ...badhai...



vijay

pls read my new poem "झील" on my poem blog " http://poemsofvijay.blogspot.com

gravatar
अर्शिया अली said...
11 August 2009 at 1:06 PM  

Mazedaar hain.
{ Treasurer-T & S }

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:51 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय