feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

यह लडकिया

.

लडका... लडकी से ... मै तुम से शादी नही कर सकता, यह लो अपने प्रेम पत्र, ओर मेरे मुझे वापिस कर दो ....
लडकी, लडके से ( एक बडी सी टोकरी सामने रखते हुये) इस मे से जो तुम्हारे है ले जाओ??

*********************************************
एक अति माड्रन लडकी वेलंडे वाले दिन एक दुकान पर गई , ओर बोली आप के पास कोई ऎसा कार्ड है जिस पर लिखा हो... मै सिर्फ़ तुम स्र ओर सिर्फ़ तुम से प्यार करती हूं.
दुकान दार बोला है जी,
लडकी बोली जल्दी से दो दर्जन दे दो...

11 टिपण्णी:
gravatar
Arvind Mishra said...
10 March 2009 at 4:25 AM  

ho ha ha ha ha

gravatar
P.N. Subramanian said...
10 March 2009 at 5:01 AM  

लड़के भी आजकल ऐसे ही करते हैं. होली की शुभकामनायें.

gravatar
seema gupta said...
10 March 2009 at 5:09 AM  

लडकी, लडके से ( एक बडी सी टोकरी सामने रखते हुये) इस मे से जो तुम्हारे है ले जाओ??

"ha ha ha ha ha ha ha ha ha great"

regards

gravatar
कुश said...
10 March 2009 at 5:50 AM  

हा हा होली की फुहार चल पड़ी है.. आपको बहुत बहुत शुभकामनाए

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
10 March 2009 at 6:20 AM  

जोर दार..........
दूसरा वाला तो बस..........हंसी अपने आप आ गयी पढ़ते पढ़ते

gravatar
नरेश सिह राठौङ said...
10 March 2009 at 8:38 AM  

अंकल जी, आप पर भी होलि का असर लग रहा है ।

gravatar
शोभा said...
10 March 2009 at 10:05 AM  

हा हा हा बुरा ना मानो होली है।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
10 March 2009 at 11:27 AM  

हा हा हा हा बहुत बढिया........होली मुबारक!!!!!!!!

gravatar
Nirmla Kapila said...
11 March 2009 at 5:08 AM  

bahut badiya holi mubarak

gravatar
आलोक सिंह said...
14 March 2009 at 1:12 PM  

दो दर्जन दे दो...
बहुत बढ़िया मजा आ गया हँसते-हँसते बुरा हाल हो गया .

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:14 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय