feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

ताई ओर ताऊ

.

एक बार ताई बहुत बिमार हो गई, तो ताऊ उसे एक डाकटर के पास ले गया, अब डाकटर ने ध्यान से ताई को देखा, ओर बोला ताऊ , ताई के इलाज के ५०० रुपये लेगे गे, ताऊ बोल्या डाकटर साहब जी पागल हो गये हॊ क्या ? ५०० रुपये मे तो नयी आ जायेगी

20 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
9 March 2009 at 12:33 AM  

हा हा, ताऊ को आप पिटवा कर ही दम लोगे.

gravatar
shyam kori 'uday' said...
9 March 2009 at 2:47 AM  

हा हा हा !!!

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
9 March 2009 at 3:14 AM  

भाटिया जी, कभी ताई ने ये पढ़ लिया तो ताऊ की खैर नहीं !

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
9 March 2009 at 3:18 AM  

भाटिया जी टेम्पलेट तो बहुत अच्छा है अब लोड होने में भी ज्यादा समय भी नहीं लेता लेकिन ऊपर हेडर में लगी तस्वीर की ऊंचाई अभी भी कुछ ज्यादा है यदि तस्वीर की ऊंचाई कम हो जाये तो टेम्पलेट लोड होने में और कम समय लगेगा |

gravatar
seema gupta said...
9 March 2009 at 4:44 AM  

" ha ha ha ha ha ha ha haha sirf 500 rs mey ha ha ha ha "

regards

gravatar
रंजन said...
9 March 2009 at 5:21 AM  

हा हा.. ताऊ ये भी करता है क्या..:) मैं समझा खुद डॉ की दुकान खोले है

gravatar
अल्पना वर्मा said...
9 March 2009 at 6:14 AM  

:D..aaj to baksh dete Raj ji,taau ji ko...

aaj unki shadi ki saalgirah jo hai!

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
9 March 2009 at 7:00 AM  

देखना भाटिया जी महिला दिवस को अभी २४ घण्टे ही हुये हैं. फ़िर मत कहियेगा कि आपको बताया नही था.:)

रामराम.

gravatar
P.N. Subramanian said...
9 March 2009 at 9:03 AM  

bahut hi galat baat hai.

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
9 March 2009 at 9:35 AM  

भाटिया जी,जरा ध्यान से.कहीं ऎसा न हो कि महिला दिवस पिटाई दिवस में बदल जाए.....))

gravatar
Poonam Agrawal said...
9 March 2009 at 1:00 PM  

Aapke post kiye sabhi chutkule padhe....padhker hasee aa gayi..aapka dhyey bhi to yahi tha ....ki jo bhi is blog per aaye....uska mood achcha ho jaye....bahut hi sukhad raha aapke is blog aana.....Thanx

gravatar
भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...
9 March 2009 at 1:15 PM  

मैं तो बता भी चुका हूं इस हरकत के बारे में

gravatar
नीरज गोस्वामी said...
9 March 2009 at 2:38 PM  

आपको होली की शुभ कामनाएं ...
नीरज

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
9 March 2009 at 4:36 PM  

हां.......हां ...हा
ताऊ और ताऊ की बातें, संता bantaa जैसी हैं
आपको और आपके परिवार को होली की शुभ कामनाएं

gravatar
समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...
9 March 2009 at 5:11 PM  

रंगों के पर्व होली पर आपको हार्दिक शुभकामना

gravatar
राज भाटिय़ा said...
9 March 2009 at 6:15 PM  

नमस्कार ओर धन्यवाद भई यह ताऊ राम पुरिया जी की कहानी नही है, हमारे हरियाणा मै बाप से बडे आदमी कॊ ताऊ कहते है, ओर यह लोग होते दिल के साफ़ है इस लिये बिना सोचे साफ़ दिल से बोल देते है, यहां भी ताऊ जी ने सोचा नही ओर बोल दिया, ओर यह कहानी बिलकुल सच्ची है.

gravatar
Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...
11 March 2009 at 2:23 PM  

चुटकुला क्या कम था, जो नीचे उसके सच्चे होने की मोहर लगा दी। ठीक है होली है पर ऐसा सच, राम-राम।
हे! प्रभू ताऊ जी का ख्याल रखना। अब तो ताई जी ठीक हो कर घर भी लौट चुकी हैं।
यह नहीं बताया कि ताऊ हैं कहां ?

gravatar
HEY PRABHU YEH TERA PATH said...
11 March 2009 at 6:32 PM  

भाटिया जी
यह ताई कि इन्सलर्ट है।
ताई को बाताया मैने,
तो ताई तमतमाकर बोली-" यह तो मै तुम्हारे ताऊ को मिल गई, नही तो अभी तक तेरा ताऊ,गलियो मे घुमता रहता ब... न... द.... रो........ कि तरह ....
मजा आ गया जी॥॥। आपभी ताऊ बनने कि लाईन मे हो, जी.......... इसमे पहले से समीरलाला तो खडे ही है..............।D:)

gravatar
आलोक सिंह said...
14 March 2009 at 1:15 PM  

५०० रुपये मे तो नयी आ जायेगी
अच्छा हुआ ताई न सुना वरना वो तो मुफ्त में दूसरा ताऊ ला देती .

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:14 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय