feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

कोका कोला

.

एक बार ताई चली रोहतक से दिल्ली बस मे, ओर बस चल पडी दिल्ली की ओर, रास्ते मै चेकर चढ गया बस मै ओर सब की टिकट चेक करने लग गया, धीरे धीरे ताई के पास आ गया, ओर ताई को देख कर बोला ताई टिकट दिखा ? ताई बोली जा मै ना दिखाऊ अपनी टिकट , अगर तेने घणा शोंक शे तो वो खडा कंडेकटेर, उस ताही पेसे दे के ले ले टिकट, ओर जी भर के देख लियो.
***********************************************
एक बार एक जाट ओर एक चमार शहर मै किसी की शादी मे आये, बेचारे दोनो ही पहली बार शहर मै आये थे,ओर शादी वालो के घर बेठे थे, तभी वेयरा उन दोनो के सामने एक एक गिलास कोका कोला का रख गया, जाट बोला अरे यह काला काला पानी सा क्या है, चमार बोला चोधरी मेरे को तो पता नही, तो जाट चमार से बोला अरे चल उठा के चख के देख क्या है, अब बेचारा चमार मना भी नही कर सका, ओर डरते डरते एक घुंट पिया, इतनी देर मे बिजली चली गई, घुंट पी कर चमार ने आंखे खोली तो जोर से चिल्लाया अरे चोधरी इस ने मत ना पियो, मै एक घुंट पीटे ही अंधा हो गया......

16 टिपण्णी:
gravatar
Mired Mirage said...
7 March 2009 at 11:35 PM  

वाह, मजेदार!
होली की आपको व आपके परिवार को शुभकामनाएँ।
घुघूती बासूती

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
8 March 2009 at 2:26 AM  

waah waah

gravatar
shyam kori 'uday' said...
8 March 2009 at 3:08 AM  

... कोको-कोला .... वाह-वाह.... !!!!

gravatar
mehek said...
8 March 2009 at 4:03 AM  

cocacola bahut mast:)

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
8 March 2009 at 4:19 AM  

Kola to vaise bhi kaali hoti hai........
Subah subah ki shuruaat hansi se, din achaa beetega aaj.

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
8 March 2009 at 4:43 AM  

बहुत बढिया जी पर ये चेकर कौन था ? होली के मूड मे यह भी बता देते.:)

रामराम.

gravatar
शोभा said...
8 March 2009 at 6:01 AM  

हा हा हा हमेशा की ही तरह शानदार प्रस्तुति।

gravatar
Anil Pusadkar said...
8 March 2009 at 6:23 AM  

कोक की तो वाट लग गई,अंधा कर देता है ये। हा हा हा। होली है।

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
8 March 2009 at 6:48 AM  

सुबह सुबह आपने हँसा दिया। होली पर रंगो भरी होली मुबारक। वैसे रोहतक में कैसे होली मनाई जाती थी जब आप वहाँ थे ये भी किसी पोस्ट में बताए तो अच्छा लगेगा।

gravatar
संगीता पुरी said...
8 March 2009 at 7:57 AM  

बहुत सुंदर ..;

gravatar
रंजन said...
8 March 2009 at 8:17 AM  

mast...

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
8 March 2009 at 10:27 AM  

दोनो सुंदर हैं, होली की असीम शुभकामनाएँ।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
8 March 2009 at 10:55 AM  

बहुत बढिया........अर भाटिया जी,थोडा ध्यान से लिखिए.....नहीं तो अभी कोई महानुभाव झंडा उठाए चले आएगा कि भाटिया जी 'चमार' कह के जातिप्रथा को बढावा दे रहे हैं.

gravatar
mamta said...
8 March 2009 at 2:08 PM  

मस्त !:)
आपको और आपके परिवार को होली मुबारक हो ।

gravatar
आलोक सिंह said...
14 March 2009 at 1:19 PM  

अरे चोधरी इस ने मत ना पियो, मै एक घुंट पीटे ही अंधा हो गया..
कोक की तो खटिया खडी कर दी आपने

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:15 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय