feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

जपानी जुगाडिये

.



दवा ऎसे डाले, अरे आंखे है या तेल की पीपी...

18 टिपण्णी:
gravatar
Anil Pusadkar said...
27 February 2009 at 5:07 AM  

ये है स्टाईल्।

gravatar
रंजन said...
27 February 2009 at 5:12 AM  

दवा डाल रहा है या तेल भर रहा है..:)

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
27 February 2009 at 5:34 AM  

ये सिर्फ फोटो खिंचा रहा है। बीच में चश्मे का ग्लास नहीं देखा? तेल जाएगा कहाँ।

gravatar
PREETI BARTHWAL said...
27 February 2009 at 5:54 AM  

क्या खूब तरिका ढूंढा है दवाई आंखों में डालनें का

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
27 February 2009 at 6:15 AM  

वैसे ये चशमा मिलता कहाँ है। वाह।

gravatar
mamta said...
27 February 2009 at 6:29 AM  

कमाल के है ये जापानी लोग ।जो न करें सो थोड़ा । :)

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
27 February 2009 at 6:30 AM  

बहुत आनन्द दायक लग रहा है.

रामराम

gravatar
आलोक सिंह said...
27 February 2009 at 7:01 AM  

प्रणाम
मुझे तो लगता है की ये चश्मे पर कुप्पी रख कर कोई करतब दिखा रही है .

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
27 February 2009 at 7:39 AM  

कमाल :)

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
27 February 2009 at 7:41 AM  

मुझे तो कुप्पी चश्मे के साथ चिपकी लगती है.........नही तो गिर जाती

gravatar
मोहिन्दर कुमार said...
27 February 2009 at 7:45 AM  

हा हा... ऐसे ही जपानी जुगाड के कुछ फ़ोटो मेरे पास भी है... सोच रहा हूं एक पोस्ट बना ही डालूं

आपका ब्लोग काफ़ी देर से लोड होता है.. शायद wigits अधिक होने के कारण... स्लो कनेक्शन वाले विजिटर शायद पूरा आन्नद नहीं ले पाते होंगे

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
27 February 2009 at 8:29 AM  

कमाह है! हम तो समझते थे कि ऎसे जुगाडू लोग सिर्फ हिन्दुस्तान में ही पाए जाते हैं.

gravatar
दीपक कुमार भानरे said...
27 February 2009 at 9:01 AM  

श्रीमान जी क्या यह जापानियों की आँख मैं दवा डालने की कोई नई तकनीक है.
अच्छा है .

gravatar
seema gupta said...
27 February 2009 at 9:26 AM  

" ha ha ah what a style.."

Regards

gravatar
शोभा said...
27 February 2009 at 12:26 PM  

हा हा हा बहुत अच्छा दृश्य।

gravatar
Shikha Deepak said...
27 February 2009 at 1:05 PM  

बहुत खूब :)

gravatar
डॉ .अनुराग said...
27 February 2009 at 2:52 PM  

आँख के डॉ डिप्रेस हो जायेगे राज जी

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:20 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय