feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

बच्चे केसे केसे

.


देखिये इस बच्चे ने कुर्सी गले मै फ़ंसा कर कितनो को आफ़त मै डाल दिया..

20 टिपण्णी:
gravatar
आलोक सिंह said...
26 February 2009 at 6:55 AM  

प्रणाम

इस बालक ने ये कुर्सी गले में पहनी कैसे . लगता है बड़ा शरारती बच्चा है दूसरो को परेशान करने में उसे आनंद आता है .

gravatar
नीरज गोस्वामी said...
26 February 2009 at 7:05 AM  

बच्चे बच्चे ही होते हैं...किसी भी देश के हों...शरारतें भी सब बच्चों की एक सी होती हैं.....लेकिन ये बच्चा तो सबका गुरु निकला...

नीरज

gravatar
Anil Pusadkar said...
26 February 2009 at 7:07 AM  

क्या बताऐं?अपना भी बचपम मे कुछ-कुछ ऐसा ही हाल था।

gravatar
रंजन said...
26 February 2009 at 7:07 AM  

बाप रे..

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
26 February 2009 at 7:19 AM  

बड़ा शरारती बच्चा है।

gravatar
Abhishek said...
26 February 2009 at 7:21 AM  

कमाल का बच्चा है!

gravatar
मोहिन्दर कुमार said...
26 February 2009 at 7:38 AM  

अरे इसने खुद पहनी है या ये लोग पहना रहे हैं.. इसकी जांच करवाई जाये..

जी एक और बात.. आपका पेज बडी देर से लोड होता है.. कुछ तामझाम कम करने की जरूरत है

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
26 February 2009 at 7:45 AM  

ये तो बच्चा नही खुद ही ताऊघंटाल है. :)

रामराम.

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
26 February 2009 at 7:46 AM  

पढें : ताऊ घंटाल = गुरु घंटाल :)

gravatar
HEY PRABHU YEH TERA PATH said...
26 February 2009 at 8:56 AM  

BHATIAJI
BHAI .YEH KUDSI CHIZ HI AISI HAI..ACHE-ACHO KO AAFAT MAIN DALDETI HAI.. :D
NOTE-::"KISKA KUTTA CROREPATI" PADHNE KE LIYE "HEY PRABHU"
KE GHAR PADHAARE ..


[हे प्रभु यह तेरापन्थ, के समर्थक बनिये और टिपणी देकर हिन्दि ब्लोग जगत मे योगदान दे]

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
26 February 2009 at 9:15 AM  

क्या कहने इस बच्चे के.........पूत के पाँव तो पालने में ही दिख जाते हैं, यहाँ तो गर्दन ही...........
आगे आगे देखिये क्या गुल खिलायेगा

gravatar
mehek said...
26 February 2009 at 9:26 AM  

bada natkhat bachha lagta hai:)

gravatar
hempandey said...
26 February 2009 at 9:57 AM  

Child is father of a man.

gravatar
दीपक कुमार भानरे said...
26 February 2009 at 12:06 PM  

बच्चे तो बच्चे होते हैं कंही के भी हो . हाँ बच्चे को थोडा ध्यान देकर और समझाइश देकर ऐसी घटनाओं को कम करने की कोशिश की जा सकते है .

gravatar
शोभा said...
26 February 2009 at 12:29 PM  

बच्चों के कारनामें हम रोज़ देखते हैं। ः)

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
26 February 2009 at 1:59 PM  

भाटिया जी,मुझे तो ये आपके बचपन की तस्वीर लग रही है.....सच बताईए है कि नहीं?

gravatar
डॉ .अनुराग said...
26 February 2009 at 2:53 PM  

बाप रे..

gravatar
लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
26 February 2009 at 10:10 PM  

अब आगे से ऐसा नहीँ करेगा ना ?
- लावण्या

gravatar
seema gupta said...
27 February 2009 at 10:17 AM  

" aaj to accha sabak mila is payre shrarti bacche ko...'
Regards

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:21 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय