feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

बरसात हमारा कया बिगाड लेगी जी

.

क्या आप को भी ऎसा छाता चाहिये, बिलकुल घर सा महसुस करे

22 टिपण्णी:
gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
28 February 2009 at 5:33 AM  

वाह!वाह!वाह!वाह!वाह!

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
28 February 2009 at 5:51 AM  

यह भी खूब है :)

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
28 February 2009 at 5:54 AM  

वाह जी भाअिया जी , हमको तो भिजवा ही ो आप.:)

रामराम.

gravatar
mehek said...
28 February 2009 at 5:54 AM  

bahut badhiya;):)ye hamara chata hai:)

gravatar
hem pandey said...
28 February 2009 at 6:10 AM  

छाता बनाने वाले की कल्पना की दाद देनी पड़ेगी.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
28 February 2009 at 6:12 AM  

अजी बिल्कुल चाहिए। वाह क्या बात है।

gravatar
आलोक सिंह said...
28 February 2009 at 6:50 AM  

प्रणाम
ऐसा छाता मिल जाये तो हल्की बरसात क्या मुसलाधार बारिश भी कुछ न बिगाड़ पाए .

gravatar
नीरज गोस्वामी said...
28 February 2009 at 6:51 AM  

वाह जी वा...कमाल का छाता है जी...न कभी देखा ना सुना लेकिन है जबरदस्त...
नीरज

gravatar
संगीता पुरी said...
28 February 2009 at 7:29 AM  

बहुत सुंदर छाता है ... बनानेवाले की तारीफ है .... सचमुच मूसलाधार बारिश में भी किसी का कुछ न बिगडे।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
28 February 2009 at 7:38 AM  

यहां हिन्दुस्तान में तो ये फार्मूला फ्लाप समझें, अजी 10 फुट की सडक पे 4 लोग भी इस छाते को लेकर नहीं चल सकते.

gravatar
seema gupta said...
28 February 2009 at 7:45 AM  

" khan se milega ye???"

(template bhust sunder or attractive hai")
Regards

gravatar
अल्पना वर्मा said...
28 February 2009 at 8:41 AM  

waaah! sach bahut kamaal ka hai yah to!
kya idea hai!

gravatar
अल्पना वर्मा said...
28 February 2009 at 8:42 AM  

naya template bahut achacha hai.

gravatar
डॉ .अनुराग said...
28 February 2009 at 9:03 AM  

jhakas hai ji dono.chatta bhi aaor aapka templet bhi.

gravatar
मीत said...
28 February 2009 at 9:36 AM  

sahi hai bhai.

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
28 February 2009 at 9:37 AM  

क्या जुगाड़ है बरसात का .........
क्या बताएं.......हमारे दुबई में तो बरसात को भी तरसते है, कभी कभी.....वो भी बूंदा बंदी, जब इतनी बरसात ह जाए तो सब कुछ बंद हो जाता है

gravatar
शोभा said...
28 February 2009 at 11:30 AM  

अति सुन्दर

gravatar
Arvind Mishra said...
28 February 2009 at 1:37 PM  

भाई वाह ! नवप्रवर्तन !

gravatar
P.N. Subramanian said...
28 February 2009 at 2:07 PM  

बहुत ही बढ़िया. जल्दी बताईये कहाँ मिलता है. आभार.

gravatar
अनूप शुक्ल said...
28 February 2009 at 3:18 PM  

सुन्दर!

gravatar
नरेश सिह राठौङ said...
28 February 2009 at 5:55 PM  

थोक मे भिजवायें मै अपनी दुकान मे बेच दूंगा ।

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:20 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय