feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

तुम आज मेरे संग हंसलो..

.

यह बात बहुत पुरानी है, एक बार एक आदमी अपनी बहिन से मिलने जा रहा था,पुराना समय था, कोई कार, स्कुट्रर वगेरा नही थे, लोग पेदल ही एक जगह से दुसरी जगह जाते थे, तो यह आदमी भी पेदल ही घर से चल पडा, चलते चलते,शाम हो गई, ओर वो आदमी भी थक गया,उस से सोचा चलो कही किसी गांव मे किसी के घर रात गुजार लेता हूं,होटल तो होते नही थे, ओर जमाना अच्छा था, लोग मेहमान को भगवान समझ कर रखते थे,

वो आदमी रास्ते मे पडने वाले गांव मै पहुचां , देखा सामने ही एक घर है, उस ने खटखटाया, एक बुढिया मां ने दरवाजा खोला, ओर उस अजनबी को देख कर बोली बेटा कया बात है, अजनबी बोला.... मां मै फ़लां गाव से आया हुं, अपनी बहिन के गांव जा रहा हूं , वो गांव अभी दुर है , मेने सोचा जंगली जानवरो से बचने के लिये कही आसारा मिल जाता तो रात इसी गांव मै रुक जाता,बुढिया बोली बेटा, मै माफ़ी चाहुगी, मेरे घर पर इस समय कोई मर्द नही, बस मै ओर मेरी बहू ही है, मै रात तो तुझे रख लू, लेकिन....अजनबी बोला मां मै समझता हुं , कोई बात नही, ओर राम राम कर के अजनबी आगे बढ गया, एक घर से कुछ आवाजे आ रही थी, अजनबी ने वहा खटखटाया, तो एक आदमी ने दरवाजा खोला, फ़िर वही सवाल, ओर उस आदमी ने कहा बेटा, मेरे घर मे तो मेरी बहिने ओर मेरी लडकी है,ओर सभी जवान है, मै माफ़ी चाहता हुं.

अजनबी वहां से भी आगे बढा, ओर दो चार घर छोड कर फ़िर एक दरवाजा खटखटाया, इस बार एक जवान लडकी ने दरवाजा खोला, लेकिन बात शुरु होने से पहले ही एक अन्य ओरत आ गई, ओर उस ने भी कहा बेटा मेरी जबान बेटी है, ओर घर मै हम दोनो मां बेटी ही रहते है, माफ़ी चाहती हूं, अगले दो चार घरो मे भी यही समस्या आडे आई.

अन्त मै वो अजनबी ने एक घर का दरवाजा खटखटाया, दरवाजा खोला एक आदमी ने, तो अजनबी बोला जी आप के घर मै कोई बहू, या जवान लडकी तो नही ?? आदमी ने पुछा क्यो ?? तो अजनबी बोला जी बात कुछ नही बस मेने रात बितानी थी......

13 टिपण्णी:
gravatar
shyam kori 'uday' said...
13 February 2009 at 3:13 AM  

... अदभुत, प्रसंशनीय अभिव्यक्ति।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
13 February 2009 at 4:28 AM  

पर ये रात बिताने वाला कौन था?:)

रामराम.

gravatar
seema gupta said...
13 February 2009 at 4:32 AM  

" ha ha ha ha ha haha ha ha ha ha fantastic.."

Regards

gravatar
Anil Pusadkar said...
13 February 2009 at 5:48 AM  

मज़ेदार्।

gravatar
आलोक सिंह said...
13 February 2009 at 10:01 AM  

बहुत सुंदर रचना , शायद इसी प्रकार की एक रचना राजू श्रीवास्तव ने भी लाफ्टर चैलेन्ज में सुनाई थी .
धन्यवाद .

gravatar
रंजना said...
13 February 2009 at 12:40 PM  

ha ha ha ha ha majedar..

gravatar
Hari Joshi said...
13 February 2009 at 12:45 PM  

ताउ की बात का जबाव दीजिए भाटिया जी

gravatar
राज भाटिय़ा said...
13 February 2009 at 4:37 PM  

हरी जी , ये रात बिताने वाला ताऊ तो नही था, लेकिन ताऊ का दादा हो सकता है, क्यो कि कई आदते पीढी दर पीढी चलती है, ओर ताऊ ने भी झट पहचान लिया....
धन्यवाद

gravatar
PD said...
13 February 2009 at 7:38 PM  

purana chutkula hai magar, bahut din pahle yah chutkula suna tha aur bhul bhi gaya tha..
so shuru se ant tak khub maja aaya.. :)

gravatar
समयचक्र - महेद्र मिश्रा said...
14 February 2009 at 6:37 AM  

बहुत सुंदर रचना

समयचक्र: चिठ्ठी चर्चा : वेलेंटाइन, पिंक चडडी, खतरनाक एनीमिया, गीत, गजल, व्यंग्य ,लंगोटान्दोलन आदि का भरपूर समावेश

gravatar
hempandey said...
14 February 2009 at 6:46 AM  

बात हँसने की नहीं, रोने की है.बात आदमी को आदमी पर विश्वास न होने की है.

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
14 February 2009 at 4:09 PM  

कमाल है! ताऊ नै तो हम घणा सरीफ आदमी समझे करां थे.....ताऊ इसे ऊत्तपणे बी कर सकै.ईब बेरा पाटया.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:29 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय