feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

गर्मा गर्म चाय

.

साहब का हुकाम गर्मा गरम चाय.... अजी जल्दी पहुचाओ....
पकिस्तानी रेलवे सर्विस....

15 टिपण्णी:
gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
31 January 2009 at 2:14 AM  

what n idea sirji

gravatar
P.N. Subramanian said...
31 January 2009 at 4:39 AM  

कितना रिस्क उठाते हैं. वह भी किसी शाही ट्रेन में. सुंदर फोटू. आभार.

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
31 January 2009 at 4:54 AM  

कमाल है जी.

रामराम.

gravatar
लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
31 January 2009 at 5:01 AM  

This is called " service with a smile " :)
क्या दीलेरी है !!
- लावण्या

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
31 January 2009 at 5:22 AM  

बहुत रिस्क उठाते हैं जी यह तो :)

gravatar
Nirmla Kapila said...
31 January 2009 at 5:50 AM  

vah kya baat hai

gravatar
हिमांशु said...
31 January 2009 at 5:57 AM  

शानदार ।

gravatar
vineeta said...
31 January 2009 at 6:06 AM  

gggggazzzzzzzabbbbbb

gravatar
Anil Pusadkar said...
31 January 2009 at 7:42 AM  

गज़ब की दिलेरी है।

gravatar
Dr. Amar Jyoti said...
31 January 2009 at 10:14 AM  

'इँसान परेशान उधर भी है इधर भी'

gravatar
purnima said...
31 January 2009 at 10:34 AM  

बसंत पंचमी की आप को हार्दिक शुभकामना

शानदार ।

gravatar
विनय said...
31 January 2009 at 1:50 PM  

कितना ख़तरनाक है, ख़ूनी चाय-नाश्ता, बाप रे बाप!

gravatar
कार्तिकेय मिश्र (Kartikeya Mishra) said...
31 January 2009 at 2:50 PM  

अरे ये केवल पाकिस्तानी ट्रेन सर्विस नहीं, पूर्वोत्तर रेलवे की लम-सम हर ट्रेन में यही स्पाइडरमैन कूदते-फांदते दिख जाते हैं।

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
1 February 2009 at 4:49 AM  

...तो क्या एक प्याली चाय के लिए कुछ भी करेगा?

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:58 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय