feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

मार्स पर पानी ?

.

अजी सुना है मार्स पर साफ़ पानी मिला है.... आप खुद ही देखे...


11 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
1 February 2009 at 2:18 AM  

पी कर देखो..पानी ही है कि वोदका??

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
1 February 2009 at 3:08 AM  

यह मार्स क्या होता है जी

gravatar
P.N. Subramanian said...
1 February 2009 at 3:16 AM  

मार्स बिजली की सिगडी होगी.

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
1 February 2009 at 3:20 AM  

इसमे तो वोदका के साथ बर्फ भी दिख रही है ! लगता है बर्फ से पिघले पानी की ख़बर तो आ गई लेकिन बर्फ और वोदका की छुट गई ! मुझे तो लगता है रशिया ने बहुत पहले ये खोज कर ली और छुपा रखा वोदका पीने के लिए , आपने आज इसे सार्वजानिक कर दिया , चित्र दिखा कर !

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
1 February 2009 at 4:18 AM  

मन्नै तो यो गोआ की काजू फ़ेनी दिखै सै.:)

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
1 February 2009 at 4:48 AM  

चल भैये! यहाँ तो टल्ली लोग जमते जा रहे हैं...!:)

gravatar
विष्णु बैरागी said...
1 February 2009 at 7:44 AM  

जा की रही भावना जैसी।
मैं तो साफ पानी ही देख पा रहा हूं।
यदि यह मेरा भ्रम है तो इसे बनाए रखिएगा। सुखी जीवन के लिए भ्रम जरूरी होते हैं।

gravatar
Mrs. Asha Joglekar said...
1 February 2009 at 10:12 AM  

वाह भाई वाह पानी और पान दोनों ही मंगल हों ।

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
1 February 2009 at 10:41 AM  

ये कौन सा पानी है जी?

gravatar
अल्पना वर्मा said...
1 February 2009 at 12:28 PM  

mujhey to sirf chocolate dikhayee de rahi hai

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:57 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय