feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

कल रात चांद अपनी चांदनी यही भूल गया ??

.












आज सुबह मे जब हेरी के साथ घुमने गया तो , यह नजारा चारो ओर था, रात को घुंघ थी जो धीरे धीरे जमती गई घास पर ,झाडियो पर, ओर पेडो पर, यह चित्र मेने अपने बेटे के मोबाईल से लिये है, अगर कल भी ऎसा ही नजारा हुआ तो फ़िर यह नजारे अपने केमरे मे केद करुंगा.
लगता है चांद अपनी चांदनी यही भुल गया, बहुत सुंदर नजारा था.

चित्रो को बडा कर के देखे ओर भी सुंदर दिखेगे. इन्हे कोई भी कापी कर सकता है. अगर कल ओर मिले तो जरुर भी चित्र खीचूंगा.

22 टिपण्णी:
gravatar
शाश्‍वत शेखर said...
17 January 2009 at 9:22 PM  

सच मेँ खुबसुरत तस्वीर है, हमने तो सेव कर लिया है।

gravatar
हिमांशु said...
18 January 2009 at 1:45 AM  

प्यारी तस्वीरें. रख लिया है.

gravatar
संगीता पुरी said...
18 January 2009 at 1:55 AM  

सच में खूबसूरत हैं...मैंने भी सेव कर लिया।

gravatar
Udan Tashtari said...
18 January 2009 at 2:13 AM  

मौसम ने आपको शायराना बना दिया, गालिब!!! बहुत उम्दा तस्वीरें.

gravatar
Arvind Mishra said...
18 January 2009 at 2:30 AM  

वाह मैंने तो बड़ा कर के भी देखा स्निग्ध धवल रोशनी सी चारो ओर फैली हुयी है !

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
18 January 2009 at 4:02 AM  

बहुत सुंदर रूमानी हैं यह तस्वीरे

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
18 January 2009 at 4:23 AM  

बहुत सुंदर तस्वीरें हैं. लगता है सीधे स्वर्ग से उतरी हैं।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
18 January 2009 at 4:35 AM  

भाटिया साहब, चित्र तो घणै ही सुथरे लाग रे सैं पर ये जो घर दिख रे सैं यो तो रोहतक जैसे देखाई दे रे सैं? तो क्या जर्मनी को भी आपने रोहतक बणा दिया? :)

रामराम.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
18 January 2009 at 6:19 AM  

सच चारों तरफ चाँदनी सी बिखरी पडी है। अद्भुत नजारा है। और जी ये आपके ब्लोग पर सीधे हाथ की तरफ भारतीय तिंरगा तो चार चाँद लगा रहा है

gravatar
Nirmla Kapila said...
18 January 2009 at 6:25 AM  

बहुत खूबसूरत तस्वीरें है और ऐसि तस्वीरोम क इन्तजार रहेगा

gravatar
डॉ .अनुराग said...
18 January 2009 at 8:41 AM  

बहुत सुंदर

gravatar
P.N. Subramanian said...
18 January 2009 at 9:09 AM  

लगता है आप स्वर्ग में हो और हमलोग नर्क में. आभार.

gravatar
अल्पना वर्मा said...
18 January 2009 at 9:27 AM  

arrey! aap to shayar bhi hain???title bahut hi sundar hai..chaand chandani bhuul gaya...wah!
chitr aur post kareeyega..ye do bhi bahut achchey hain..Sameer ji ke yahan bhi Canada mein aisa hi haal hoga.

gravatar
Dev said...
18 January 2009 at 9:43 AM  

BAhut Sundar picturs...aur usase bhi sundar headline....

Regards...

gravatar
महेंद्र मिश्रा said...
18 January 2009 at 1:14 PM  

क्या बात है ये गाना याद आया
तू मेरा चाँद तू मेरी चाँदनी
... पोस्ट पढ़कर लगा कि चाँद से चाँदनी दूर कैसे चली गई ,बहुत सुंदर
बहुत बढ़िया राज जी

gravatar
राज भाटिय़ा said...
18 January 2009 at 1:45 PM  

आप सभी का धन्यवाद, इन चित्रो को पसंद करने के लिये, आज सर्दी थोडी कम है , लेकिन धीरे धीरे हवा चल रही है, लगता है शायद बर्फ़ गिरे, अगर बर्फ़ गिरे, ओर फ़िर ऎसा हो तो बहुत सुंदर नजारा लगता है,P.N. Subramanian जी मै भी आप सब के साथ ही ही, दुख सुख यहां भी लोगो को उतने ही है जितने भारत मै, अब चाहे वो गोरा हो या काला.
फ़िर से आप सब का धन्यवाद

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
18 January 2009 at 2:45 PM  

तस्वीरें तो वाकई मे बहुत सुन्दर हैं..........

gravatar
Alag sa said...
18 January 2009 at 3:02 PM  

प्रकृति को शत-शत नमन।

gravatar
गौतम राजरिशी said...
18 January 2009 at 6:09 PM  

चांदनी में झूम...

gravatar
लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...
18 January 2009 at 6:15 PM  

simply beautiful ...pure white snow on trees ..looks lovely.

gravatar
Amit said...
19 January 2009 at 7:27 AM  

acchi photographs hain...bahut sahi...

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:10 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय