feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

ताऊ के गोल गप्पे

.

ताऊ... कॊई दो चीजो के नाम बताऒ जो हम नाशते मै नही खा सकते.
तिवारी साहब जी..वेरी सिम्पल यार....लंच ओर डिनर कॊ हम नाश्ते मै नही खा सकते.
****************************************************
तिवारी साहब जी... अरे ताऊ सुबह सुबह क्या कर रहै हो??
ताऊ... तिवारी साहब जी मे डिनर कर रहा हूं ??
तिवारी सहाब जी... अरे ताऊ सुबह के खाने को नाशता कहते है.
ताऊ... हां हां मुझे मालुम है, लेकिन मै तो कल रात का बचा खाना खा रहा हू.
**********************************************************
ताऊ... आओ आओ तिवारी साहब जी अरे आप भाभी को साथ नही लाये ???
तिवारी साहब.. ताऊ भाई आप की भाभी तो आने को तेयार थी, लेकिन मेट्रो मे विस्फ़ोटक चीजे साथ लाना मना जो है??
****************************************************************
एक जगह शराब के बिरोध मै भाषण चल रहा था, तो भाषण देने वाला बोला..अब आप बाताये की अगर मै यहां एक बालटी पानी की ओर एक बाल्टी देसी शराब की मंगावाऊ, ओर एक गधे को पीने के लिये दी जाये तो वो गधा किस चीज को पीयेगा, एक आदमी ने कहा कि पानी, तो उस भाषाण देने वाले ने पुछा कि क्यो, तो उस आदमी ने कहा गधा जो ठहरा.
******************************************************

11 टिपण्णी:
gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
29 December 2008 at 1:24 AM  

बहुत जोरदार रहे जी ताऊ और तिवारी साहब का संवाद ! वैसे तिवारी साहब चुनाव के बाद से ही घुमने फ़िरने गये हैं ! अभी दो सप्ताह बाद प्रगट होंगे शायद ! कल ही बात हुई थी उनसे !

रामराम !

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
29 December 2008 at 2:00 AM  

मजेदार !

gravatar
seema gupta said...
29 December 2008 at 4:44 AM  

ताऊ... आओ आओ तिवारी साहब जी अरे आप भाभी को साथ नही लाये ???
तिवारी साहब.. ताऊ भाई आप की भाभी तो आने को तेयार थी, लेकिन मेट्रो मे विस्फ़ोटक चीजे साथ लाना मना जो है??
'ताऊ के गोल गप्पे खट्टे मिट्ठे और तीखे भई वाह "

Regards

gravatar
P.N. Subramanian said...
29 December 2008 at 5:04 AM  

आज का ब्रेकफास्ट लजीज रहा. आभार.

gravatar
गौतम राजरिशी said...
29 December 2008 at 8:09 AM  

जोरदार राज साब....सुबह-सुबह इस थोक में हँसी देने का शुक्रिया

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
29 December 2008 at 10:12 AM  

भाटिया जी, गधा गधा ही होता है और आदमी आदमी। अल्कोहल का स्वाद कभी चखा नहीं न चखने की मंशा है। चुटुकले जोरदार हैं।

gravatar
jamos jhalla said...
29 December 2008 at 1:58 PM  

Uncle Ji Baalti Bhar Kar Desi DaaRoo Ke Bajaaye SCOTCH KE KEWaL DO Glass RAKHTE To Gadhaa Bhi MANaa Nahin KAR PAATaA .{ MAAFI}

gravatar
jayaka said...
29 December 2008 at 1:59 PM  

सभी चुट्कुलें एक से बढ़ कर एक है!... संकलन बहुत बढिया है, धन्यवाद!

gravatar
jamos jhalla said...
29 December 2008 at 2:05 PM  

Gharaati
oye jhalleyaa Akele hi Mooh Uthaaye Aa GAYaA .Bhabhi Ji Ko Saath Nahin Layaa.
JHALLA
Shah Ji Jab AAp Ke Ghar Main Meri Bhabhi Ji MOUJOOD Hain To AAp JI KI BHABHI Ko KAShT DENA UCHIT NAHI THaA {MAAFi}

gravatar
varsha said...
30 December 2008 at 1:27 PM  

mazedaar chutkule hain..aapka blog kaafi interesting hai...

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:20 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय