feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

खुशी कुछ ऎसे भी

.


क्या बात है ? पागल हो गया है/गई है ? या किसी मुसिबत से दो चार हो कर जान छुडा कर आ रहा है/आ रही है ?? कुछ भी हो लगता/लगती बहुत खुश है

12 टिपण्णी:
gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
17 December 2008 at 3:43 AM  

बहुत लाजवाब !

धन्यवाद !

gravatar
Dr Prabhat Tandon said...
17 December 2008 at 4:39 AM  

बहुत किस्मत वाला है :)

gravatar
P.N. Subramanian said...
17 December 2008 at 4:41 AM  

इनकी तो 'चित भी मेरी पट भी मेरी'. सुंदर. आभार.

gravatar
seema gupta said...
17 December 2008 at 5:46 AM  

"ये भी खुब रही , खुशी का अनोखा अंदाज.."

Regards

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
17 December 2008 at 5:56 AM  

:)

gravatar
Alag sa said...
17 December 2008 at 1:57 PM  

प्रेम अंधा होता है। शादी आंखें खोल देती है।
इसकी कुछ ज्यादा ही खुल गयी लगती हैं।

gravatar
योगेन्द्र मौदगिल said...
17 December 2008 at 5:33 PM  

Waaaaaaah

Waaaaaah

Mazaa aa gaya BHAI SAHEB

gravatar
Mumukshh Ki Rachanain said...
18 December 2008 at 9:38 PM  

भाटिया साहब,

जिस तरह से
"निज कवित्त कही लग न नीका"
उसी तरह से
" निज कर्म केहि लागि फीका"
भी कहा और समझा जा सकता है.
शायद ये खुशी अपने उसी निज कर्म की है, जिस पर गर्व है.

चन्द्र मोहन गुप्त

gravatar
गौतम राजरिशी said...
19 December 2008 at 4:16 PM  

क्या बात है राज साब...कहां से लाते हो आप भी चुन-चुन कर ये तस्वीरें

सच में किस्मत वाला है ये तस्वीर वाला

gravatar
नरेश सिह राठौङ said...
20 December 2008 at 3:14 AM  

इस चिट्ठे पर मेरी पहली टिप्पणी है । सभी फ़ोटो अदभुत व सारगर्भित है ।

gravatar
Dr.Bhawna said...
20 December 2008 at 9:02 AM  

Bahut khub...

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:26 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय