feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हार्दिक श्रद्धांजली

.


हार्दिक श्रद्धांजली मेरे उन शहीद भाईयो के लिये जो हमारी ओर हमारे देश की आबरु की रक्षा करते शहीद हो गये।लेकिन मन मै नफ़रत ओर गुस्सा अपनी निकाम्मी सरकार के लिये

7 टिपण्णी:
gravatar
नारदमुनि said...
28 November 2008 at 3:01 AM  

iske siva or ham kar bhee kaya sakte hain. narayan narayan

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
28 November 2008 at 4:08 AM  

ॐ शान्तिः।

कोई शब्द नहीं हैं...।
बस...।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
28 November 2008 at 6:38 AM  

हार्दिक श्रद्धांजलि !

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
28 November 2008 at 3:10 PM  

देश के लिए शहीद होने वालों को शत्-शत् नमन |
निकम्मी सरकार के लिए कोई शब्द नही

gravatar
shama said...
1 December 2008 at 9:03 PM  

Aaj sirf aapko apne blogpe aamantrit karne aayee hun.." Meree Aaawaz Sune" ye lekh padhneke liye...aur billike galeme ghanti bhandhneki prakriya nidartaase shuru kar dee hai..
Ek nihayat abhyaspoorn lekin jhakjhor denewalee aur kayiyonka pardaa faash karnewali documentery bananeki taiyyareeme jut gayi hun....5 dicembarko Puneme live press conference ayojit ki hai....ab mujhe kiseeka koyi bhay nahi..jaan hathlipe liye ghoom rahi hun...mudke nahi dekhna...mere deshke prati, un nishkaran mare gaye jaanbaaz afsaron aur police karmiyonke prati yahi shradhanjali hogi...har orse madatki darkaar hai...kaam mere akeleeka nahi..ek prerit teamka hai...
Thakre aur Modiko to chunauti dehi chuki hun....
Apne gusseko kewal ek napunsak gussa manke nahee chalna hai mujhe...ek nishchit anjaam tak le jaana hai...behad kamartod mehnat aur abhyas karna hoga oichhale 1947 se leke aajtalak ke qanoon aur alag alag samitiyonke ahwaal, Indian Penal Code ka indepth abhyas...ye sab karna hoga..kaheebhi chook nahi sakti...galti akshamya hogi..chahungi(ek vinamr binatike tehet) ki ye sandes aap adhik se adhik logontak pohocha de...taumr shukrguzaar rahungee..

gravatar
sandhyagupta said...
2 December 2008 at 5:39 AM  

Shahidon ko mera naman.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:32 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय