feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

ताऊ के काम

.

भाईयो हमारा ताऊ ऎसा वेसा नही, बहुत ही सीधा साधा शरीफ़ आदमी है, अगर किसी को शक हो तो भारत के किसी भी पुलिस स्टेशन पर जा कर उन महा आदमी की फ़ोटो देख सकते है, अरे आप गलत समझ रहै है, अरे महात्मा गांधी की फ़ोटो भी तो पुलिस स्टेशन पर लगी होती है... तो क्या ........ सच मै हमारा ताऊ बहुत शरीफ़ है, यकीन नही होता ??? तो नीचे खुद पढ ले....

भाई ताऊ के बडे लडके का रिश्ता पक्का होगया, अब ताऊ हमारा बहुत शरीफ़, लडकी वाले पक्के चालू ओर कंजुस मक्खी चुस, अब जब ताऊ ने शादी की तारीख निकलवा ली तो लडकी का वाप बोला चोधरी साहब बात यह है कि तुम बारात थोडी छोटी लाना, बस १०,१५ आदमी ही।

अब ताऊ था दिल का राजा, उस की जान पहाचान बांलाग मै ही इतनी है २,३ सो तो बांलग्रिये ही इक्कट्टॆ हो जाये, फ़िर गाव के , रिश्ते दार सब मिला के १५०० लोग, ताऊ ने एक दो बार समझाया, लेकिन लडकी का वाप था पक्का कंजुस, वो नही माना, तो ताऊ ने हां कर दी, ओर भाईयो रोकते रोकते भी २७ आदमी हो गये,

बारात पहुची लडकी वालो के घर मै, ओर लडकी के बाप ने जब देखा की बाराती तो बहुत ज्यादा है, ओर खाना बनबाया है सिर्फ़ १५ आदमियो का, तो भाईयो लडकी के बाप ने खीर मै, आलू की सब्जी मै ,दाल मै ,चावलो मै, ओर हलवे मै पानी डाल दिया, ओर पानी डालने के कारण सारा खाना वेस्वाद सा हो गया, अब बराती खाने आये तो ताऊ के कारण कुछ नही बोले ओर थोडा बहुत खा कर ऊठ गये, ताऊ भी सारी बात समझ गया।

अब शादी हो गई ओर विदाई का समय आया तो लडकी के बाप ने ताना सा मारा, चोधरी साहब आप बारात तो बहुत छोटी लेकर आये, अब हमारे ताऊ को गुस्सा तो बहुत आया, लेकिन मोके की नाजाकत देखर्ते हुये दोनो हाथ जोड कर ताऊ बोला... चोधरी साहब हमारे गाव मै गोवर खाने वाले बस इतने ही लोग थे।
तो हमारा ताऊ हुआ न शरीफ़

17 टिपण्णी:
gravatar
PD said...
9 November 2008 at 4:58 PM  

अजी हम कभी प्रश्न किये हैं क्या? जो सफाई देने कि जरूरत पर गई?
अब चोर कि दाढ़ी में तिनका वाली बात हो तो बात और है.. :)

gravatar
जितेन्द़ भगत said...
9 November 2008 at 5:37 PM  

ताऊ में धीरज भी लाजवाब है, ना तै इब ताईं लट्ठ बजा देता:)

gravatar
संदीप शर्मा Sandeep sharma said...
9 November 2008 at 6:09 PM  

अच्छा वाकया है...

gravatar
रंजना said...
9 November 2008 at 6:27 PM  

waah ! ye hui na baat.maara nahle par dahla.

laajawaab....maja aa gaya padhkar.

gravatar
रंजना said...
9 November 2008 at 6:27 PM  

waah ! ye hui na baat.maara nahle par dahla.

laajawaab....maja aa gaya padhkar.

gravatar
Udan Tashtari said...
10 November 2008 at 1:58 AM  

ताऊ तो वाकई बहुत सीधा निकला..सज्जन आदमी है वो तो कभी कभी मजबूरी में....बस्स्स!!!

gravatar
Alag sa said...
10 November 2008 at 3:29 AM  

अच्छा, उसी दिन से यह कहावत बनी है,
'तीन बुलाए, तेरह आए, दे दाल में पानी।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
10 November 2008 at 3:57 AM  

ताऊ ने कितनो की दाल में पानी डाल दिया उसका क्या ? आज ख़ुद ताऊ पर बीती तो समझ आई ना ?

gravatar
seema gupta said...
10 November 2008 at 5:46 AM  

अब हमारे ताऊ को गुस्सा तो बहुत आया, लेकिन मोके की नाजाकत देखर्ते हुये दोनो हाथ जोड कर ताऊ बोला... चोधरी साहब हमारे गाव मै गोवर खाने वाले बस इतने ही लोग थे।
तो हमारा ताऊ हुआ न शरीफ़
" ha ha ha ha dekha tauee jee ke sharaft, parson ptta chla svarg seedhra gye, or vapas aatey he gul khila diya...... sach kha kee tau jee ka koee sanee nahee.."

Regards

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
10 November 2008 at 6:04 PM  

ताऊ जी की जय हो:)

gravatar
गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...
10 November 2008 at 7:18 PM  

जय हो ताऊ जी
जय कारे के इलावा हम का करें

gravatar
अनुपम अग्रवाल said...
10 November 2008 at 7:41 PM  

अरे घिर गए और लड़ने के लिए आदमी हो सकता है कि कम पड़ गये हों
ठीक किया .अक्लमंदी का काम

gravatar
jayaka said...
11 November 2008 at 9:06 AM  

ताऊजी की अकल होशियारी लाजवाब है।... कितना बढिया जवाब दे डाला।

gravatar
पुनीत ओमर said...
11 November 2008 at 9:24 AM  

पता बताइए अपने ताऊ जी का..
उनके चरणों में थोडी सी जगह मिल जाए तो जीवन धन्य हो जाए.

gravatar
makrand said...
12 November 2008 at 9:45 AM  

bahut khub likha saheb
regards

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
12 November 2008 at 3:39 PM  

यो बुड्ढा तो रोज़ कमाल करे से .तभी तो पूछे है इसको

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:45 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय