feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

नाई रे नाई तेरा काम कैसा

.

देखिये यह विडियो ओर फ़िर नाई की दुकान पर शेव करवाने जाये....


11 टिपण्णी:
gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
14 May 2011 at 2:26 PM  

बाप रे बाप।

gravatar
JHAROKHA said...
14 May 2011 at 3:31 PM  

aadarniy sir
agar aise -aise log apni hajamat banvane ya bal katvane naai ki dukan par pahunch gaye to bechara naai to boriya bitar samet ke bhag lega
aapka video bahut pasand aaya
dhanyvaad
poonam

gravatar
गगन शर्मा, कुछ अलग सा said...
14 May 2011 at 4:24 PM  

अबे शेव कर रहा हूं या लोरी सुना रहा हूं :)

gravatar
मनोज कुमार said...
15 May 2011 at 5:00 AM  

हंस भी नहीं पा रहा हूं। दबा के रखना पड़ रहा है। नाई कहीं विडिओ से बाहर न आ जाए।

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
16 May 2011 at 1:49 PM  

ये नाई है ... वैसे वो भी क्या करे बिचारा ...

gravatar
Vivek Jain said...
16 May 2011 at 8:25 PM  

उफ
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

gravatar
ज्योति सिंह said...
19 May 2011 at 5:42 PM  

kya nazare hai ,nai kya kare ..........

gravatar
डॅा वेदप्रकाश श्योराण said...
27 October 2012 at 7:36 AM  

jor ka marya..............

gravatar
Makhan lal Das said...
1 November 2012 at 6:58 AM  

Nice blog.. like it

gravatar
kamal kant joshi said...
4 August 2013 at 2:05 AM  

bilkul thik kiya good

gravatar
Jhumu Rani said...
23 October 2015 at 7:07 AM  

Desi Choti Golpo

Bangla Sexy Golpo.

Indian Bangla Choti.

Bhabi Bangla Choti

Sex Story-Adult Jokes.

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय