feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

जिन्दगी हो तो ऎसी हो...मस्त

.

अजी हमारी क्या मजाल ऎसा कहे, आज तक सुनते आ रहे हे... पहले मां की सुनी, फ़िर बहिन की सुनी, इन के संग संग टीचर की सुनी, अब बीबी की सुनते हे, इस लिये यह हम नही कह रहे......:) वेसे बात तो काम की हे.

अगर विलायत मे आना हे तो देर मत करे जी जल्दी जल्दी जाये, क्योकि अब हनुमान जी ने संजीवनी बुटी लाने से तोबा कर ली हे, अब तो वीजे लगवा रहे हे, जल्दी कही देर ना हो जाये.

कर लो बात अरे भाई हम ने इंसानो की बात की हे खोते ओर गधो के वीजे यहां नही मिलते.


जेब मे जगह बनाने के लिये यह जगह भी अच्छी लगी. धन्यवाद


ताऊ के हाल शे, ताऊ जी क्या हाल हे जी

15 टिपण्णी:
gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
5 January 2011 at 1:54 AM  

महिलाये शान्त रहे ............ यह तो जगह जगह लिखा होना चाहिये . ध्वनि प्रदुषण नही होगा

gravatar
अन्तर सोहिल said...
5 January 2011 at 6:13 AM  

हा-हा-हा
कहां से ढूंढ लाते हैं जी आप
धन्यवाद

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
5 January 2011 at 7:14 AM  

वाह! बोलते चित्र हैं, समस्या का समाधान बताते भी।

gravatar
निर्मला कपिला said...
5 January 2011 at 7:38 AM  

वाह ये कान वाला आईडिया बढिया मेरे कान मे भी बहुत बडे छेद हैं। चलेगा धन्यवाद भाटिया जी।

gravatar
प्रवीण पाण्डेय said...
5 January 2011 at 9:48 AM  

बाप रे बाप, एक से एक नायाब।

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
5 January 2011 at 11:54 AM  

गज़ब की फोटो हैं ... मज़ा अ गया ...

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
5 January 2011 at 12:25 PM  

@@@@ताऊ के हाल शे, ताऊ जी क्या हाल हे जी @@@
गजब.

gravatar
Kunwar Kusumesh said...
5 January 2011 at 3:15 PM  

मज़ेदार हैं सभी फोटो

gravatar
गगन शर्मा, कुछ अलग सा said...
5 January 2011 at 4:54 PM  

धन्य हैं हम। आज विजा लगवा रहे हैं, कल बीवीयां ढूंढवायेंगे।

gravatar
daanish said...
7 January 2011 at 3:30 AM  

वाक़ई ...
मस्त जिंदगी के दीदार करवा दिए आपने तो ...
सभी चित्र मजेदार लगे .

हौसला-अफजाई का बहुत बहुत शुक्रिया

gravatar
Akshita (Pakhi) said...
7 January 2011 at 9:37 AM  

हा..हा..हा...सभी मजेदार.


___________________
'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

gravatar
दीप्ति शर्मा said...
8 January 2011 at 11:54 AM  

bahut sunder

mere blog par is bar

" मैं "

gravatar
JHAROKHA said...
11 January 2011 at 7:13 AM  

raaj ji...agar mahilayein shant ho gain to duniya ki kaya palat ho jaegi :)......bahut hi umdaa post...dhanyavad
poonam

gravatar
ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...
12 January 2011 at 9:02 AM  

फोटो देख कर मज़ा आ गया !
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:11 AM  



दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय