feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

इसे कहते है अंग अंग का डोलना

.

 जिन्हे आशील लगे वो इसे ना देखे, वेसे यह नाच मै अपने बच्चो के संग देख सकता हुं.
भाई कल घुमते घुमते  यु ही इस विडियो पर नजर पडी ओर नाच देख कर मोहित हो गया, मैने तो ऎसा नाच अपनी जिन्दगी मै पहली बार देखा है.... आप देखे फ़िर बताये, क्या आप ने  ऎसा नाच पहले कभी देखा है.....

21 टिपण्णी:
gravatar
निर्मला कपिला said...
19 June 2010 at 7:12 AM  

अब देखे बिन्क़ा कैसे पता चलेगा कि ये अश्लील है। आभार।

gravatar
अन्तर सोहिल said...
19 June 2010 at 7:26 AM  

टीवी पर कई बार किसी शो में बैले डांस देखा है जी
लेकिन साडी में बैले पहली बार देखा
मुझे बैले नाच बहुत अच्छा लगता है और एक खास बात देखी है कि ज्यादातर लम्बे कद वाले कलाकार ही इसे कर पाते हैं। बहुत बढिया वीडियो छांट कर लाये हैं।
धन्यवाद और यह बिल्कुल भी अश्लील नही है।

प्रणाम स्वीकार करें

gravatar
aruna kapoor 'jayaka' said...
19 June 2010 at 9:26 AM  

इस नाच को अश्लील नहीं कह सकते...क्यों कि यह एक मर्यादा के अंदर है!... इस नये प्रयोग के लिए धन्यवाद भाटियाजी!

gravatar
डॉ महेश सिन्हा said...
19 June 2010 at 11:18 AM  

अरब देशों का सांस्कृतिक नृत्य

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
19 June 2010 at 3:42 PM  

हाँ जी ...गुरु आनंद आ जाता है हा हा हा

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
19 June 2010 at 5:11 PM  

मैंने तो नही देखा लेकिन है यह भी अजब,प्रस्तुति के लिए आभार..

gravatar
hem pandey said...
20 June 2010 at 11:38 AM  

गजब का अंग संचालन.

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
20 June 2010 at 7:32 PM  

आनंद आ गया देख कर ..... शुक्रिया भाटिया जी ....

gravatar
मोहिन्दर कुमार said...
21 June 2010 at 2:21 PM  

वाह वाह जी,
बडा ही दिलक्श डांस फ़ार्म है
आभार

gravatar
vipinkizindagi said...
22 June 2010 at 11:03 AM  

बेहतरीन......

gravatar
राम त्यागी said...
22 June 2010 at 10:50 PM  

वाह मजा आ गया जी
awesome !!

gravatar
Suman said...
23 June 2010 at 5:28 PM  

nice

gravatar
शेरघाटी said...
24 June 2010 at 2:52 AM  

साथियो, आभार !!
आप अब लोक के स्वर हमज़बान[http://hamzabaan.feedcluster.com/] के /की सदस्य हो चुके/चुकी हैं.आप अपने ब्लॉग में इसका लिंक जोड़ कर सहयोग करें और ताज़े पोस्ट की झलक भी पायें.आप एम्बेड इन माय साईट आप्शन में जाकर ऐसा कर सकते/सकती हैं.हमें ख़ुशी होगी.

स्नेहिल
आपका
शहरोज़

gravatar
शेरघाटी said...
24 June 2010 at 2:54 AM  

साथियो, आभार !!
आप अब लोक के स्वर हमज़बान[http://hamzabaan.feedcluster.com/] के /की सदस्य हो चुके/चुकी हैं.आप अपने ब्लॉग में इसका लिंक जोड़ कर सहयोग करें और ताज़े पोस्ट की झलक भी पायें.आप एम्बेड इन माय साईट आप्शन में जाकर ऐसा कर सकते/सकती हैं.हमें ख़ुशी होगी.

स्नेहिल
आपका
शहरोज़

gravatar
सुमित प्रताप सिंह said...
27 June 2010 at 9:51 AM  

nice post...

gravatar
ज्योति सिंह said...
28 June 2010 at 10:49 AM  

bahut hi sundar dance ,hamare yahan mere pati aksar bachcho ke saath dekhte hai ,yah to kala hai ,aajkal to isse adhik gandagi filmo me hai .ye bhi dance ka ek roop hai .

gravatar
डा. हरदीप सँधू said...
28 June 2010 at 1:51 PM  

अरब देशों का डांस.... अच्छा है ....

gravatar
सतीश सक्सेना said...
29 June 2010 at 3:48 AM  

बहुत बढ़िया डांस राज भाई !
इसमें अश्लीलता क्या है ....? मगर यहाँ हर तरह के लोग हैं और अपनी भावना के अनुसार प्रतिक्रिया देने को स्वतंत्र हैं :-)

gravatar
Vidhu said...
29 June 2010 at 9:48 AM  

शुक्रिया भाटिया जी ..

gravatar
इंदु पुरी गोस्वामी said...
15 December 2010 at 5:53 PM  

वीडियो में दिखाया गया डांस 'बेले' नही बल्कि 'बेली' डांस है.
'बेली' यानी कमर.इस डांस की विशेषता नर्तकी का संगीत की लय और धुन पर कमर को मूवमेंट देती है.उनकी तरह कमर को हिलाना बेहद कठिन है शायद इसकी ट्रेनिंग उन्हें बचपन से दी जाती है.
बहुत ही खूबसूरत डांस है ये.चूँकि कमर ही इस नृत्य का केन्द्र बिंदु है इसलिए उनके वस्त्र आभूषण कमर को दर्शाने वाले होते हैं इस दृष्टि से देखे तो हमे कहीं अश्लीलता नजर नही आएगी. मेरा पूरा परिवार एक साथ इसे देखता है और इसे पसंद भी करता है.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:19 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय