feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

बसंती इस ???? के सामने मत नाचना

.

नमस्कार जी, आप सभी ने शोले फ़िल्म तो जरुर देखी होगी, जब यह फ़िल्म नयी नयी रिलीज हुयी तो, इस के डायलाग, अजी खास कर गब्बर सिंह के डायलाग तो बच्चो बच्चो की जुवान पर रहते थे, जेसे सारा देश ही गब्बर सिंह बन गया हो, हमारे पडोसी ताऊ फ़तू भी एक दिन अपने छोरे के संग फ़िल्म देखने चले गये...... ओर फ़िल्म देख कर बाप बेटे का जो दिमाग घुमा.... उस के बारे अब हम क्या बताये अप खुद ही देख ले.

25 टिपण्णी:
gravatar
खुशदीप सहगल said...
2 May 2010 at 8:04 PM  

राज जी,
ये मक्खन और गुल्ली को आप कहां से पकड़ लाए...

जय हिंद...

gravatar
honesty project democracy said...
2 May 2010 at 8:17 PM  

वह राज साहब आपका भी जवाब नहीं /

gravatar
Udan Tashtari said...
2 May 2010 at 8:30 PM  

बढ़िया मजेदार विडिओ खोज लाये आप. :)

gravatar
संगीता पुरी said...
2 May 2010 at 8:31 PM  

मजेदार !!

gravatar
परमजीत सिँह बाली said...
2 May 2010 at 8:47 PM  

bahut jordar!!

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
2 May 2010 at 11:48 PM  

काहे नहीं नाचेगी भाई...हमने टिकट लिया है :-)

gravatar
M VERMA said...
3 May 2010 at 1:27 AM  

बाप तो बाप बेटा उसका बाप
मजेदार

gravatar
पी.सी.गोदियाल said...
3 May 2010 at 3:40 AM  

Bahut saare gabbar paidaa ho gaye aajkal aise.

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
3 May 2010 at 5:26 AM  

बाप तो बाप बेटा चार हाथ आगे ..पूरा परिवार शोले में रम गया पर आगे क्या हुआ ..लगे होंगे २-४ डंडे दोनो बाप बेटे को??
मजेदार प्रस्तुति राज जी धन्यवाद

gravatar
seema gupta said...
3 May 2010 at 5:33 AM  

ha ha ha ha ha ha bhut khub..
regards

gravatar
वाणी गीत said...
3 May 2010 at 6:35 AM  

मस्त ...
मगर इसके बाद का विडिओ भी तो दिखाना था ...जब कपडे धोने वाली ने इनको धोया होगा ...!!

gravatar
'अदा' said...
3 May 2010 at 6:39 AM  

ha ha ha ha ha ha bhut khub..

gravatar
रंजन said...
3 May 2010 at 9:19 AM  

haa haa

gravatar
rashmi ravija said...
3 May 2010 at 9:25 AM  

हा हा..बहुत ही मजेदार वीडियो...

gravatar
जी.के. अवधिया said...
3 May 2010 at 4:46 PM  

वाह! मजा आ गया राज जी!

gravatar
Mahfooz Ali said...
3 May 2010 at 5:17 PM  

मजेदार !

gravatar
Mithilesh dubey said...
3 May 2010 at 6:06 PM  

वाह बहुत खूब ।

gravatar
निर्मला कपिला said...
5 May 2010 at 12:13 AM  

ha ha ha ah ha ha ha bahut khoob shubhakaamanaayen

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
5 May 2010 at 2:34 PM  

भाटिया जी ... लाजवाब वीडियो है .

gravatar
Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...
6 May 2010 at 2:40 AM  

बसन्ती तो बसन्ती यह प्रस्तुति देख के तो धन्नो भी नाचने लगेगी.

gravatar
नीरज जाट जी said...
6 May 2010 at 7:02 AM  

फिर बसन्ती नाची या नहीं।

gravatar
BrijmohanShrivastava said...
6 May 2010 at 6:41 PM  

बहुत ही बढिया और बहुत ही मज़ेदार

gravatar
ओम पुरोहित'कागद' said...
18 May 2010 at 6:49 PM  

आदरणीय भाटिया जी,
सादर वन्दे!
विदेश मेँ रह कर देश की चिँता ! अभिभूत हूं आप के विचार और सोच से।
दूसरे ब्लाग पर आपने हमारे यहां के भ्रष्टाचार एवम् पुलिस-मीडिया व्यवहार का अच्छा चित्रण किया है।बधाई हो!
आप मेरे ब्लाग पर आते रहेँ,अच्छा लगता है।हो सके तो उस पर अपना फोटो भी टांग देँ।

gravatar
राम त्यागी said...
18 May 2010 at 8:18 PM  

lol

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:22 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय