feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

दान

.

आज का विचार...
दुसरो को खुशी देना सर्वोत्तम दान है

एक बार आप भी बिना लालच मे किसी को यह दान देके देखे

21 टिपण्णी:
gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
24 October 2009 at 5:37 PM  

आज के दौर में जहाँ हर आदमी कुछ ना कुछ परेशान सा है उसे मुस्कान देना एक कार्य है..इससे असीम खुशी खुद को भी मिलती है..बहुत ही बढ़िया बात कही आपने

gravatar
परमजीत बाली said...
24 October 2009 at 5:42 PM  

बहुत सही व सुन्दर विचार प्रेषित किए हैं आभार।

gravatar
M VERMA said...
24 October 2009 at 6:07 PM  

खुशी वो शै है जो जितनी दी जाती है उससे ज्यादा मिलती है

gravatar
Udan Tashtari said...
24 October 2009 at 6:26 PM  

ओके

gravatar
राजीव तनेजा said...
24 October 2009 at 8:51 PM  

अपुन तो अपने ब्लॉग के जरिए पिछले अढाई साल से यही किए जा रहे हैँ

gravatar
खुशदीप सहगल said...
24 October 2009 at 9:17 PM  

अपने लिए जिए तो क्या जिए,
तू जी ऐ दिल ज़माने के लिए...

जय हिंद...

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
24 October 2009 at 9:34 PM  

अति सुन्दर विचार्!!

gravatar
शरद कोकास said...
24 October 2009 at 9:54 PM  

भाटिया जी इस सद्विचार पर मेरी एक पूरी कविता है प्रस्तुत कर रहा हूँ

261 खुशी के बारे में

खुशी के बारे में सोचो
कि खुशी क्या है
सुख-सुविधाओं में जीना
ज़िम्मेदारियों से मुक्त होना
जीवन में दुख व संघर्ष का न होना
तालियाँ बजा बजा कर भजन गाना
आँखें मून्दकर प्रसाद खाना
बच्चों से रटा हुआ पहाड़ा सुनना
हर इतवार सिनेमा देखना
अपनी हैसियत पर इतराना
या फिर
खुशी के बारे मे न सोचते हुए
किसी में जीने की ताकत भर देना
किसी बुज़ुर्ग से दो बातें कर लेना
रोते हुए बच्चे को चुप कराना
बेसहारा का सहारा बन जाना
गोया कि इस तरह मिलीं खुशियाँ
दूसरों में बाँट देना

वह भी सोचो
यह भी सोचो
खुशी के बारे में
एक बार फिर सोचो ।


शरद कोकास

gravatar
Suman said...
25 October 2009 at 2:55 AM  

nice

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
25 October 2009 at 4:59 AM  

जब लोमडीयां पूंछ छोड कर भाग रही हों तो क्या किया जाये?

रामराम.

gravatar
अल्पना वर्मा said...
25 October 2009 at 5:07 AM  

sundar vichar.

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
25 October 2009 at 5:55 AM  

अब उनका क्या कहें जो दूसरों को दुख देकर खुश होते हैं। जैसे आजकल ब्लॉगर सम्मेलन से असन्तुष्ट कुछलोग कर रहे हैं...।

gravatar
अविनाश वाचस्पति said...
25 October 2009 at 6:51 AM  

@ सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी


कुछ सुखी ही होते हैं
दूसरों को दुखी देखकर
उन्‍हीं की बहुतायत है
सिर्फ ब्‍लॉगिंग में ही नहीं
पूरे समाज में।

आप हतप्रभ क्‍यों है
खुशी बाद में न सही
पहले तो खूब बंटी
हमारी तो जेब
खुशी से खूब भरी।

बाद वाले तो ले उड़े
फुलझड़ी
अब जला रहे हैं
चमक से खुश हैं
पर शिकायत है
इससे धुंआ निकलता है
पर्यावरण प्रदूषित होता है
इसे ही कहते हैं
दूसरे को दुखी करने का प्रयास
और इसी में खुशी का अप्रतिम विश्‍वास
जिसका है रहने दो
जो जिस हाल में है
उसे उसी में बंद रहने दो
चंद लोगों को चंद ही रहने दो
खुशी का चंदा मत दो।

gravatar
श्रीकांत पाराशर said...
25 October 2009 at 10:18 AM  

achha vichar hai. aise vicharon ko hum dhyan mein rakh kar aage badhen to sahi disha mein kadam badhane mein madad milti hai.

gravatar
MANOJ KUMAR said...
25 October 2009 at 12:02 PM  

जो हो, दान तो उसी का कर सकते हैं। किसके पास है इतनी खुशी, फिर भी
जिंदगी के हर मोड़ पर
सुनहरी यादों के एहसास रहने दो।
सुरुर दिल में जुबां पे मिठास रहने दो।
यही फलसफा है जीने का,
ना ख़ुद रहो उदास
ना दूसरों को उदास रहने दो।

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
25 October 2009 at 2:04 PM  

लाजवाब विचार है .............

gravatar
KK Yadav said...
25 October 2009 at 9:31 PM  

दुसरो को खुशी देना सर्वोत्तम दान है....Padhkar dil khush hua.

gravatar
Nirmla Kapila said...
27 October 2009 at 4:05 AM  

बहुत सुन्दर विचार है धन्यवाद और शुभकामनायें

gravatar
दिलीप कवठेकर said...
28 October 2009 at 1:52 AM  

मन में अगर पोझिटीवीटी या सकारात्मकता हो तो ही मन किसी को खुश कर सकता है. ज़िंदादिल बंदे ही ये कर सकते हैं.

खुशी वो दान है जो देकर हमें और खुशी देता है.

gravatar
JHAROKHA said...
29 October 2009 at 4:16 AM  

सच कहा है आपने----
पूनम

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:35 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय