feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

विचार

.

आज का विचार....
मनोविकारो पर विजय प्राप्त करना ही आत्मा की सच्ची स्वतन्त्रता है.

16 टिपण्णी:
gravatar
M VERMA said...
10 October 2009 at 5:37 PM  

उत्तम विचार

gravatar
AlbelaKhatri.com said...
10 October 2009 at 5:38 PM  

आपने शत प्रतिशत सही फरमाया भाईजी............

ये मन के विकार हमें बीमार कर देते हैं और बीमार आदमी को सारी दुनिया से चिढ सी हो जाती है.. मन स्वस्थ हो तो विकार नष्ट हो जाते हैं और विचार जन्म लेते हैं जो कि सृजन का कार्य करते हैं विध्वंस का नहीं.....

आपका अभिनन्दन ! इस अनमोल विचार के लिए.........

gravatar
खुशदीप सहगल said...
10 October 2009 at 6:08 PM  

राज जी,
आत्मा किसी में बची हो तभी न...

जय हिंद

gravatar
Udan Tashtari said...
10 October 2009 at 6:23 PM  

धन्य हुए

gravatar
परमजीत बाली said...
10 October 2009 at 6:25 PM  

सुन्दर विचार।

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
10 October 2009 at 7:25 PM  

सौ आने सच्ची बात कही आपने...ये मनोविकार ही है जो मनुष्य को अजीबोगरीब काम करने पर मजबूर कर देता है और उसे उसका एहसास बाद में होता है...मनोविकार पर विजय निश्चित रूप से मनुष्य की सबसे बड़ी विजय होती है.

बहुत सुंदर विचार..बधाई!!!

gravatar
पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
10 October 2009 at 10:49 PM  

भाटिया जी.....ससुरे मन के चलते तो आत्मा कब की मर चुकी है ।

gravatar
Anil Pusadkar said...
11 October 2009 at 8:12 AM  

भाटिया जी लगे हुयें तो है मगर मन बड़ा चंचल है।

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
11 October 2009 at 8:56 AM  

UTTAM VICHAAR HAI .... AUR ISKO POORA KARNE KE LIYE .... EKAAGRATA AUR DHYAAN LAGAANA AASAAN MAARG HAI ....

gravatar
GATHAREE said...
11 October 2009 at 10:41 AM  

aajkal manovikaron ke bojh se aatma dab gayi hai

gravatar
Dr. Mahesh Sinha said...
11 October 2009 at 2:01 PM  

सत्य वचन

gravatar
जी.के. अवधिया said...
11 October 2009 at 2:49 PM  

बिल्कुल सही विचार है किन्तु मनोविकारों पर विजय प्राप्त करना बहुत ही मुश्किल कार्य है।

gravatar
अल्पना वर्मा said...
12 October 2009 at 7:53 AM  

Satya vachan

gravatar
Nirmla Kapila said...
12 October 2009 at 11:00 AM  

बिलकुल सत्य वचन हैं धन्यवाद्

gravatar
'अदा' said...
12 October 2009 at 10:21 PM  

Bhatiya ji ye kaam nahi aasaan...!!

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:39 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय