feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

सेर द पुत्तर रोंदा नई. ???

.

एक सरदार जी का लडका स्कूल जाते समय रो रहा था.
सरदार जी ने बच्चे को समझाया... पुत्तर, सेर द पुत्तर रोंदा नई.
बेटा,, जी भापा जी, पर सेर दा पुत्तर स्कुल भि ते नई जांदा.
*********************************************************************
मास्टर ताऊ से टिटानिंक केसे डुबा ?
ताऊ..
जी डुबुक
डुबुक डुबुक डुबुक डुबुकडुबुक
ओर फ़िर बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक
ओर फ़िर गुलिम गुलुम गुलुम
ओर फ़िर गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म
ओर फ़िर पुकिक्क्क्क्क्क पुक
****************************************************+
संता जी एक दिन दुनिया से तंग आ कर आत्महत्या करने रेलवे लाईन पर पहुच गये, साथ मै शराब की बोतल ओर मुरगे भी ले गये,
लोगो ने पुछा भाई संता जी यह सब साथ मै क्यो ?
संता जी बोले भाई अगर रेल लेट आइ तो भुखे तोडे मरना है.

20 टिपण्णी:
gravatar
सैयद | Syed said...
8 July 2009 at 8:56 AM  

बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक
ओर फ़िर गुलिम गुलुम गुलुम
ओर फ़िर गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म
ओर फ़िर पुकिक्क्क्क्क्क पुक



हंसते हंसते पेट में बल पड़ गए....

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
8 July 2009 at 9:20 AM  

ये शेर का पुत्तर अच्छा है।

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
8 July 2009 at 9:36 AM  

बहुत सुंदर जी. मजा आगया.

रामराम.

gravatar
AlbelaKhatri.com said...
8 July 2009 at 9:38 AM  

bhai titanic ko dubaane ki yeh ada
kamaal ki hai
maze ki baat toh ye hai ki bhookh se nahin marna.......ha ha ha ha ha ha ha

gravatar
विनोद कुमार पांडेय said...
8 July 2009 at 9:43 AM  

MAST!!

Maja aa gaya..

gravatar
महामंत्री - तस्लीम said...
8 July 2009 at 10:01 AM  

शेर को सवा शेर जवाब।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

gravatar
नीरज बधवार said...
8 July 2009 at 10:13 AM  

बहुत बढ़िया...

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
8 July 2009 at 10:50 AM  

Sher da puttar........... majaa aa gaya

gravatar
seema gupta said...
8 July 2009 at 10:55 AM  

डुबुक डुबुक डुबुक डुबुकडुबुक
ओर फ़िर बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक बुडुक
ओर फ़िर गुलिम गुलुम गुलुम
ओर फ़िर गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म गुलुम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म
ओर फ़िर पुकिक्क्क्क्क्क पुक
ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ah aha haaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa

regards

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
8 July 2009 at 1:14 PM  

एकदम स्वस्थ मनोरंजन!

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
8 July 2009 at 4:26 PM  

आज तक लोग पता नहीं बेचारे को कैसे-कैसे डूबता दिखाते बताते रहे। (-:

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
8 July 2009 at 5:22 PM  

वाह्! क्या खूब कही.....शेर दा पुत्तर। हा हा हा हा.....

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
8 July 2009 at 5:45 PM  

बहुत सुंदर जी.

gravatar
तीसरी आंख said...
8 July 2009 at 5:53 PM  

हा हा हा

gravatar
Udan Tashtari said...
9 July 2009 at 1:32 AM  

haa haaaa haaaaaa!!!

gravatar
गौतम राजरिशी said...
9 July 2009 at 11:17 AM  

ho! ho!!

is khullee hansi ke liye shukriyaa raaj saab

gravatar
hem pandey said...
9 July 2009 at 1:07 PM  

मजेदार.

gravatar
jamos jhalla said...
9 July 2009 at 3:09 PM  

ha....ha....ha....ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha

gravatar
Murari Pareek said...
10 July 2009 at 5:56 PM  

HA...HA.. SAHI WAQT PAR MASHALA MUJHE MIL GAYA THANKS

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:54 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय