feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

कभी कभी दिल खोल के हंसो यार

.

एक जमींदार दुसरे जमींदार से... यार अगर अपनी कार से सारा दिन घुमू तो भी मै अपनी आधी जमीन ही देख पाऊगां.

दुसरा जमींदार... हा भाई पहले हमरे पास भी ऎसी ही कार थी.

**********************************************************

पत्नि.... अगर मै कही खॊ जाऊ तो तुम क्या करोगे ?

पति..... जान मै बहुत सारे अखबारो मे इस्तेहार दुंगा ?

पत्नि...... अच्छा क्या लिखवाओ गे उन मे ?

पति...... जहां भी रहो खुश रहो....

***************************************************************

एक बनिया, केले वाले से.... भईया केला केसे दिया ?

केले वाला... साहब जी एक रुपये का एक.

बनिया... ६० पेसे का देना है?

केले वाला.... सेठ जी ६० पेसे मे तो केले का छिलका भी नही आता ?

बनिया.... जेब से पेसे निकाल कर यह लो ४० पेसे, छिलका तुम रख लो, बाकी केला मुझे दे दो

**********************************************************************

एक जर्मन को एक भारतिया ने अपना खुन दे कर बचाया,

जर्मन ने खुश हो कर उसे मर्सिडिज तोहफ़े मै दे दी.

एक साल बाद फ़िर उस जर्मन को खुन की जरुरत पडी,

भारतीया पडोसी ने फ़िर से उसे अपना खुन दिया.

इस बार जर्मन ने उसे मोती चुर लड्डूओ का डिब्बा दिया,

भारतिया को थोडा गुस्सा आया, ओर बोला इस बार मर्सिडिज क्यो नही दी ?

जर्मन बोला..... बच्चू अब हमारे अन्दर भी भारतिया खुन है.....

******************************************************************

मास्टर... अरे ताऊ के बच्चे तु बता रेडियो ओर अखबार मै क्या फ़र्क है??

ताऊ का छोरा.... कुछ सोच के मास्टर जी मास्टर जी अखबार मै तो रोटिया लपेट सकते है, ओर रेडियो मै नही.

*********************************************************************

ताऊ... नोकर से... रामू तुमने इस साल बहुत मेहनत कि है यह लो ५०००रुप्ये का चेक,

ओर सुनो अगले साल भी इसी तरह से मेहनत करोगे तो इस चेक पर साईन कर दुगां.

17 टिपण्णी:
gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
27 June 2009 at 11:00 AM  

हंसना ही तो जीवन है। केवल कुढ़ते रहने से तो नर्क हो जाएगा जीवन।

gravatar
mahashakti said...
27 June 2009 at 12:39 PM  

केले वाला मजेदार लगा और भी लगे

gravatar
Anil Pusadkar said...
27 June 2009 at 2:17 PM  

ये सब तो ठीक है जनम दिन की मिठाई कब खिलायेंगे ये बताईये।जनम दिन की बहुत-बहुत बधाई।

gravatar
P.N. Subramanian said...
27 June 2009 at 3:54 PM  

जनम दिन मुबारक हो.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
27 June 2009 at 4:25 PM  

ये ताऊ जी का छोरा भी पूरा ताऊ निकला।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
27 June 2009 at 4:52 PM  

सभी के सभी घणे मजेदार.....और भाटिया जी, जन्मदिन की एक बार फिर से बधाई कबूल करें( मिठाई चाहे न खिलाएं)..:)

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
28 June 2009 at 10:59 AM  

vaah bhatiya जी,...........kamaal के jokes, maza aa गया.............. taau तो chaaye rahte हैं हर जगह

gravatar
Pyaasa Sajal said...
28 June 2009 at 3:48 PM  

hamesha ki tarah bahut anad liyaa....aapki ye koshish kamaal ki hai....

aapka janmdin tha kal??...badhayee sweekare

gravatar
प्रदीप मानोरिया said...
29 June 2009 at 6:19 AM  

लाज़बाब हंसी की फुल्झादियां मज़ा आ गया सर

gravatar
डॉ. मनोज मिश्र said...
29 June 2009 at 7:39 AM  

मजेदार हैं जी .

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
29 June 2009 at 7:59 AM  

ताऊ ने चेक पर साईन तो कर दिये अब तारीख की वजह से चेक कैश नही हो सकता.:)

बहुत मजेदार रहे जी ये तो.

रामराम.

gravatar
Vidhu said...
29 June 2009 at 9:10 AM  

भाटिया जी नमस्कार...आज अभी पढा ...छोटी छोटी बातें हंसना जिन्दगी की नेमत है ..और आपने हंसादिया जाने कितनो को ...ऐसे ही हँसते हंसाते रहिये ..बधाई

gravatar
cartoonist anurag said...
29 June 2009 at 11:12 AM  

raj ji mafi chahta hun...
der se badhai dene ke liye...
aapko janmdin ki dher saari badhaiyan.....
aap apni kalam se yugon-yugon tak likhte rahen.............

gravatar
महामंत्री - तस्लीम said...
29 June 2009 at 1:58 PM  

आपने कहा और हम हंस दिये।
अरे नही भाटिया जी, आपके चुटकुलों ने हंसने में पर मजबूर कर दिया था। शुक्रिया।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

gravatar
मुसाफिर जाट said...
29 June 2009 at 2:37 PM  

दिल खोल के तो हँस नहीं पाए, सॉरी.
लेकिन परेशान मत होओ. हम मुहं खोलकर हँस लिए हैं.

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
29 June 2009 at 3:12 PM  

बहुत बढ़िया रोचक जोग है . पढ़कर बहुत हंसी आ रही है. . धन्यवाद.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 4:58 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय