feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

मिलते है ब्रेक के बाद

.

हम कुछ नही बोलेगे आप खुद ही देख ले...

17 टिपण्णी:
gravatar
काजल कुमार Kajal Kumar said...
20 June 2009 at 4:46 PM  

बहुत सुंदर.

gravatar
रंजन said...
20 June 2009 at 4:47 PM  

हा हा हा.. जोरदार..

gravatar
श्यामल सुमन said...
20 June 2009 at 4:51 PM  

सुन्दरम्।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

gravatar
Udan Tashtari said...
20 June 2009 at 5:40 PM  

मजेदार!!

gravatar
शाश्‍वत शेखर said...
20 June 2009 at 5:47 PM  

सही है। :)

gravatar
Arvind Mishra said...
20 June 2009 at 6:21 PM  

ओये !

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
20 June 2009 at 6:24 PM  

बड़ा धाँसू वीडियो है . बहुत बढ़िया देखकर दिल बैग बैग हो गया . धन्यवाद.

gravatar
Anil Pusadkar said...
20 June 2009 at 7:04 PM  

अब कभी बाज़ा नही बजाऊंगा गाड़ी में।

gravatar
Bhuwan said...
20 June 2009 at 9:28 PM  

मजेदार...

gravatar
●๋• सैयद | Syed ●๋• said...
20 June 2009 at 9:41 PM  

मजेदार

gravatar
परमजीत बाली said...
20 June 2009 at 9:47 PM  

kyaa baat hai,....

gravatar
P.N. Subramanian said...
21 June 2009 at 7:35 AM  

मजा आ गया

gravatar
M Verma said...
21 June 2009 at 7:49 AM  

had ho gayee

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
21 June 2009 at 9:42 AM  

सुन्दर शुरुआत है............. मजा आ गया भाटिया की............. क्या विडियो है........ कमाल

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
21 June 2009 at 9:55 AM  

कुछ बोल के मरना है क्या ?

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
29 June 2009 at 8:12 AM  

लगता है आपके ब्लाग की पुरानी फ़ीड आज इक्कठी आई है.:)

रामराम.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:04 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय