feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हंसी रोक सको तो माने??

.

नमस्कार, अगर आप के यहां यह फ़िल्म चल सके तो जरुर देखे,

9 टिपण्णी:
gravatar
●๋• सैयद | Syed ●๋• said...
12 June 2009 at 7:27 PM  

मिस्टर बीन की सारी सीरिज मजेदार होती है...

gravatar
रंजन said...
12 June 2009 at 7:44 PM  

बहुत मजेदार..

वैसे इंडिया का स्कोर है.. १०९/४.. मैच जीतेगें क्या आज?

gravatar
शरद कोकास said...
12 June 2009 at 8:33 PM  

बहुत दिनो बाद ऐसे हंसे भाई

gravatar
परमजीत बाली said...
12 June 2009 at 9:32 PM  

bahut badhiyaa!!

gravatar
हिमांशु । Himanshu said...
13 June 2009 at 3:04 AM  

हँसी तो निकल ही गयी बेसाख्ता । आभार ।

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
13 June 2009 at 4:47 PM  

भाटिया जी, हमारे यहाँ तो ये फिल्म चल ही नहीं रही.....चलिए फिर भी परम्परा निभाने को कहे देते हैं कि "बहुत बढिया"।

gravatar
Gagan Sharma, Kuchh Alag sa said...
14 June 2009 at 8:21 AM  

इस भोले इंसान की हर बात गुदगुदाती है।
शायद आप को पता हो इसने एक भारतीय महिला से विवाह किया है।

gravatar
बालसुब्रमण्यम said...
24 June 2009 at 7:57 PM  

बीन तो इक्कीसवीं सदी का चार्ली चैप्लन ही है। उसकी हर अदा मनुष्य को लोटपोट कर देती है।

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:07 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय