feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

बर्फ़ बारी के बाद के विडियो ओर कुछ ओर चित्र.

.

आज सुबह से ही मोसम कल जेसा ही था, यानि कभी बादल तो कभी सुर्य देवता की लुका छुपी, लेकिन बर्फ़ नही गिरी, लेकिन सर्दी कल से ज्यादा है, हम रात को लेट सोये तो छुट्टी के कारण, सुबह भी आराम से उठे, नाश्ता किया, फ़िर बच्चो से कहा चलो थोडा घुम आये, लेकिन बच्चो ने मना कर दिया.



फ़िर हम दोनो थोडा घुमने गये ओर, यह दो विडियो फ़िल्म भी अपने केमरे मे केद कर लाये, तो आप भी देखिये, यहं लोग केसे इस सर्दी के मोसम मे भी पसीने से तरबतर हो जाते है, क्यो कि जहा से फ़िसल कर आ रहे है, वहा तक पेदल चढना, इस फ़िसलन मै आसान नही, देखने मै तो बहुत आसान लगता है,



कई बार ऊपर जाते जाते हाथ से ट्राली छुट जाती है फ़िर उसे लेने नीचे आन पडता है, सब मिला कर मजा ही मजा है.

17 टिपण्णी:
gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
15 February 2009 at 3:39 PM  

बढ़िया लगे खूब मजे हो रहे हैं वह पर तो बर्फ के हमें देख कर ही ठण्ड लग रही है

gravatar
महेन्द्र मिश्र said...
15 February 2009 at 3:42 PM  

भारी बर्फबारी की जोरदार वीडियो है . अपने शहर में शायद इस तरह का मौसम शायद कभी देखने न मिले . आनंद गया . धन्यवाद् राज जी.

gravatar
योगेन्द्र मौदगिल said...
15 February 2009 at 4:15 PM  

Wah..wa
ham to burf dekhne 6 baar simla gaye sasuri 1 baar bhi na padi...
AApke to maze hain Bgatia g..
jis tarah marji fislo...
hay raam...
he raam..
jau raam.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
15 February 2009 at 4:57 PM  

काश कि मैं वहाँ होता।

gravatar
विष्णु बैरागी said...
15 February 2009 at 5:11 PM  

यह तो वाकई में अजूबा ही है-बर्फ में पसीना।
अच्‍छे वीडीयो।

gravatar
विनय said...
15 February 2009 at 5:23 PM  

मुझे बर्फ़ में मस्ती करना कितना अच्छा लगता है, कैसे कहूँ! बहुत अच्छा किया ये विडियो शेअर करके!

---
गुलाबी कोंपलें

gravatar
Udan Tashtari said...
15 February 2009 at 5:44 PM  

काहे डरा रहे हो..आयें कि न आयें??

gravatar
P.N. Subramanian said...
15 February 2009 at 5:48 PM  

बहुत सुंदर लगा. हमें लगता है की आप लोग तो बोर होते होंगे

gravatar
राज भाटिय़ा said...
15 February 2009 at 6:04 PM  

अजी समीर जी आओ , हम बर्फ़ थोडे साफ़ करवायेगे,आप को बिलकुल ठण्डी हवा नही लगने देगे, जनाब,
वेसे तो कनाडा मै भी काफ़ी बर्फ़ गिरती है, इस लिये डरो नही, बेजियम मै बहुत कम बर्फ़ गिरती है,

gravatar
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...
15 February 2009 at 7:34 PM  

बर्फ देखकर मजा आ गया। मैं अभी अभी त्रिवेणी महोत्सव के उद्‌घाटन की आतिशबाजी देखकर आ रहा हूँ। सत्यार्थमित्र पर आपको दिखाने की कोशिश करता हूँ।

यहाँ बर्फ के गोले... वहाँ आग के शोले...। क्या कण्ट्रास्ट बन रहा है?

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
16 February 2009 at 3:53 AM  

हमारे यहां गर्मी हो रही है. समीर जी के साथ मैं भी आ रहा हूं.

रामराम.

gravatar
seema gupta said...
16 February 2009 at 5:30 AM  

" so eye catching and interesting to watch.."

Regards

gravatar
Nirmla Kapila said...
16 February 2009 at 6:13 AM  

ैआप्कि कलम के तो कायल थे हि वीडिओ ग्राफी के भि कायल हो गये बहुत बदिया

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
16 February 2009 at 4:09 PM  

भाटिया जी, इसका मतलब है कि फागुन का पूरा आनन्द लिया जा रहा है........

gravatar
गौतम राजरिशी said...
16 February 2009 at 5:43 PM  

विडियो तो चल नहीं रहे हैं मेरे नेट पर....वैसे भी बर्फ से कुछ बुरी यादें जुड़ी हुई हैं तो उल्लसित नहीं हो पाता इन्हें देख कर...

gravatar
mahashakti said...
21 February 2009 at 4:32 PM  

आपके यहॉं आईसक्रीम खाना काफी आसान होगा। दूध बाहर रखा और आधे घन्‍टे में आईसक्रीम तैयार है।

हा हा हा

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:27 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय