feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

बीबी हो तो ऎसी हो दमदार

.



18 टिपण्णी:
gravatar
अशोक पाण्डेय said...
23 December 2008 at 2:45 AM  

वाह क्‍या बात है..दमदार बीवी के आगे मियां जी की तो हालत पतली है :)

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
23 December 2008 at 4:03 AM  

ऐसी दमदार बीबी भी मियां जी की हालत ख़राब देगी !

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
23 December 2008 at 4:22 AM  
This comment has been removed by the author.
gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
23 December 2008 at 4:26 AM  

चित्र देख कर ऐसा लगता है कि सिंह राज मनुष्यों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं ! ताई के सामने ताऊ बिल्कुल ही लंगूर दिखै सै ! :)

gravatar
seema gupta said...
23 December 2008 at 7:08 AM  

" ha ha ha ha ha ha ha ha , or kuhc nahi khenge"

Regards

gravatar
Ranjan said...
23 December 2008 at 7:32 AM  

ताऊ को किसी ने कहा "ताऊ, बड़ा शेर बना फिरता है, पर घर में घुसकर तुझॆ क्या हो जाता है?"

ताऊ बोल्यो "रहता तो घर में भी शेर हूँ, पर क्या करूं दुर्गा सवार हो जाती है" :)

gravatar
Amit said...
23 December 2008 at 8:18 AM  

mast hai bhai....acchi rahi...

gravatar
P.N. Subramanian said...
23 December 2008 at 8:49 AM  

खूब रही..

gravatar
Vidhu said...
23 December 2008 at 9:01 AM  

muskuraanaa hi hogaa abto..badhai

gravatar
रंजना said...
23 December 2008 at 12:33 PM  

हा हा हा ....... यह भी खूब रही..

पर यह सत्य नही है,केवल फोटो पोज है.वो तो बाहरवाले(फोटोग्राफर) को देखकर दोनों ने यह पोज दिया है.असलियत में स्थिति इसके उलट है.

gravatar
मोहिन्दर कुमार said...
23 December 2008 at 1:36 PM  

ज्यादा तर शिकार मादा (शेरनी ) ही करती है... इसलिय कमाऊ बीबी से तो दबना ही पडता है न :)

gravatar
महेंद्र मिश्रा said...
23 December 2008 at 4:00 PM  

शेरनी को देखकर शेर की लगता है घिघ्घी बंद हो गई है . हा हा हा

gravatar
अनूप शुक्ल said...
23 December 2008 at 5:36 PM  

सच सामने है।

gravatar
संगीता पुरी said...
23 December 2008 at 6:11 PM  

कहां कहां से ढूंढकर फोटो लाते हें आप।

gravatar
Alag sa said...
23 December 2008 at 6:17 PM  

बाप रे !!!

gravatar
गौतम राजरिशी said...
23 December 2008 at 7:41 PM  

सच पूछिये तो राज साब कमोबेश हर घर के येही दृश्य हैं...
तस्वीर किन्तु बड़ी मजेदार और जीवंत सी है

gravatar
dhiru singh {धीरू सिंह} said...
24 December 2008 at 9:32 AM  

यही ब्रह्मसत्य है . मही को हिलाने वाली के सामने श्रेष्ट पौरुष का भी यही हाल होता है

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:24 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय