feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

ताऊ के काम

.

भाई ताऊ तो होता ही शरीफ़ है...... तो चलिये ताऊ की शराफ़त का एक नमुना ओर देख ले...

एक बार ताऊ ओर तिवारी साहब जी बस मै बेठ गये, बस थी हरयाणा रोड वेज की, थोडी देर बाद कंडकटर आया ओर बोला साहब जी टिकट, तिवारी साहब सोचने लग गये की पेसे केसे बाचाये जाये? तभी तिवारी साहब जी के दिमाग ने काम किया, ओर तिवारी साहब पेसे बचाने के चक्कर मै बोले... भाई कंडकटर तु यह सोच लियो की बस मे तेरी बुआ बेठ गई थी,बस का कंडकटर शरीफ़ था, इसलिये चुप हो गया, फ़िर ताऊ को देख कर बोला ताऊ ईब तु तो टिकट कटवा ले, अब ताऊ ने देखा की यु तिवारी तो सीधा बच गया, मेरे पेसे लगेगे, ओर सोचने लग गया?????? ताऊ ने भी दिमाग दोडाया ओर बोला भाई कडकटर तु यह सोच ले की बुआ संग तेरा फ़ुफ़ा भी बस मै बेठा है.

15 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
13 November 2008 at 3:07 AM  

आज तो ताऊ नप गया दीखे है...टिकिट लेण ही पडेगी.

gravatar
mehek said...
13 November 2008 at 3:39 AM  

ha ha bahut badhiya:):)

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
13 November 2008 at 4:51 AM  

@ समीरजी (उड़नतश्तरी)...
ताऊ से भी फूफा समझ कै टिकट ना ली थी कंडक्टर नै ! क्योंकि ताऊ ने कंडक्टर को धमकी दे दी थी की तेरी बुआ को छोड़ दूंगा अगर मेरे से टिकट ली तो ! :)

gravatar
Atmaram Sharma said...
13 November 2008 at 5:16 AM  

लतीफे का मर्म गहरा है. हमारे देश में ऐसे ही चलती हैं जुगाड़ें. जिन्हें सोचने-विचारने का थोड़ा भी शगल है वे बस ऐसे ही बिसूरते रहते हैं.

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
13 November 2008 at 5:38 AM  

ताऊ से पहले होशियारी दिखाएंगे तो यही होगा।

gravatar
Tarun said...
13 November 2008 at 5:40 AM  

बहुत बढ़िया, ताऊ का जवाब भी जोरदार है। ये आपके साईड बार में जी जी जी लिखा हुआ क्यों आ रहा है इत्ती बार

gravatar
seema gupta said...
13 November 2008 at 5:46 AM  

" ha ha ha ha ha vhan narak mey tau jee kee bhains, or yhan tau jee khud......
@दिनेशराय द्विवेदी jee ne bilkul shee kha, kuch bhee kehne se pehle soch laina..."

Regards

gravatar
अल्पना वर्मा said...
13 November 2008 at 6:06 AM  

subah ki chaay ke saath jokes ka nashta --bahut khuub !--
Aesye 'tau ji' se ab to 2 ticket leni chaheeye thin--ek bua ki aur ek fufa ki--:D

gravatar
रंजना [रंजू भाटिया] said...
13 November 2008 at 8:06 AM  

ताऊ जी का तो जवाब नही :)

gravatar
डॉ .अनुराग said...
13 November 2008 at 10:18 AM  

टिकट ले ली है हमने भी

gravatar
Ratan Singh Shekhawat said...
13 November 2008 at 1:28 PM  

ताऊ तो वेसे भी नहले पर दहला है

gravatar
PN Subramanian said...
13 November 2008 at 5:47 PM  

ताऊ तो आख़िर ताऊ ही है. मजेदार.

gravatar
Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...
14 November 2008 at 4:56 AM  

ताऊ तो चतुर है! मगर टिकेट तो लेनी ही चाहिए - खासकर छोटी-छोटी बातों में तो यह याद रखना पडेगा की ताऊ भी टिकेट खरीदें!

gravatar
प्रकाश बादल said...
26 November 2008 at 3:03 PM  

bahut badhiaa raaj bhai

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:43 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय