feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

मां

.

मां का मान
बाग के माली ने कहा...... मां एक बहुत ही खुब सुरत फ़ुल है, जो पुरे बाग को खुशवु देती है.
आकाश ने कहा ......मां अरे मां तो एक ऎसा इन्द्र्धनुष है, जिस मै सभी रंग समाये हुये है.
कवि ने कहा....... मां एक ऎसी सुन्दर कविता है, जिस मै सब भाव समाये हुये है.
बच्चो ने कहा................मां ममता का गहरा सागर है जिस मे बस प्यार ही प्यार लहरे मार रहा है.
वाल्मीकी जी ने कहा.......मां ओर मात्र भुमि तो स्वर्ग से भी सुन्दर ओर पबित्र है.
वेद व्यास जी ने कहा.....मां से बडा कोई गुरु इस दुनिया मै नही.
पैगम्बर मोहम्मद साहब ने कहा.... मां वो हस्ती है इस दुनिया की जिस के कदमो के नीचे जन्नत है.

17 टिपण्णी:
gravatar
भूतनाथ said...
14 October 2008 at 4:44 AM  

बहुत सुंदर व्याख्या है इस पवित्र शब्द की ! धन्यवाद !

gravatar
dhiru singh said...
14 October 2008 at 4:50 AM  

ma kisi bhi ke chshne se dekhne par sabse sunder lagti hai .kyoni ma ma hi hoti hai .

gravatar
Alag saa said...
14 October 2008 at 5:18 AM  

प्रेम, ममता, वात्सल्य, त्याग का मूर्त रूप है 'मां'

gravatar
हरि said...
14 October 2008 at 5:23 AM  

राज जी,
मां के विषय में तो कुछ भी कहना सूरज को दीपक दिखाना है। इसलिए मैं तो यही कहूंगा कि आप सचमुच महान हैं।

gravatar
Mrs. Asha Joglekar said...
14 October 2008 at 5:33 AM  

Thanks for defining mother so beautifully.

gravatar
mahashakti said...
14 October 2008 at 6:00 AM  

आपने बहुत अच्छी बात पढ़वाई धन्‍यवाद

gravatar
Anil Pusadkar said...
14 October 2008 at 6:01 AM  

हमने नही देखा उसको कभी , पर उसकी हक़िकत क्या होगी, ऐ मां,ऐ मां तेरी सूरत से अलग, भगवान की सूरत क्या होगी,क्या होगी,हमने नही देखा…………… बहुत बढिया भाटिया जी,शब्द नही है मेरे पास आपकी तारीफ़ के लिये।

gravatar
seema gupta said...
14 October 2008 at 6:23 AM  

मां वो हस्ती है इस दुनिया की जिस के कदमो के नीचे जन्नत है.
" aapka ye lekh prh kr dil bhr aaya hai, Maa kya hai kuch shabdon mey bkhan krna bhut mushkil hai, magar aapne jo jo bhe upmayen dee hain apne aap mey bhut he mukkamal hain, bhut sunder prestutee.."

Regards

gravatar
नीरज गोस्वामी said...
14 October 2008 at 9:11 AM  

वाह भाटिया जी वाह...जिसको नहीं देखा हमने कभी पर उसकी जरूरत क्या होगी...ऐ माँ तेरी सूरत से अलग भगवान् की सूरत क्या होगी...
नीरज

gravatar
Deepak Bhanre said...
14 October 2008 at 11:54 AM  

श्रीमानजी माँ के विभिन्न रूपों की महिमा बखान बहुत ही सटीक और सुंदर शब्दों मैं करने के लिए साधुवाद .

gravatar
रश्मि प्रभा said...
14 October 2008 at 12:05 PM  

nihsandeh,maa ishwar ka doosra naam hai,
bahut sundar...jahan maa,wahan saundarya

gravatar
प्रहार - महेंद्र मिश्रा said...
14 October 2008 at 12:24 PM  

Karunamayi or mamatamayi maan jinke ashirwad se ham sabhi fal fool rahe hai .
bahut sundar post Raaj ji abhaar

gravatar
Dev said...
14 October 2008 at 3:24 PM  

Sir aapki kavita "Maa" ek bahut hi sundar rachana hai...mujhe maa ka aanchal, maa ka sneh , maa ki mamta,maa ki mahima sub kuchh mere man ko chhoo gaya...

Sir "Maa" par meri kuchh bhavnai is url par hai, aapki ek najar aur aashish chahiye..
http://dev-poetry.blogspot.com/2008/08/blog-post_3922.html

gravatar
yamaraaj said...
14 October 2008 at 4:03 PM  

mamatamayi maan ko praanam karta hun .

gravatar
रंजना said...
14 October 2008 at 4:04 PM  

बहुत ही सुंदर.......
सत्य कहा ,माँ से ही जन्म है,उससे ही प्रेम की ऊष्मा है.यही एक शब्द है जो हर पीड़ा में सबसे पहले होंठों पर आता है.उसके बारे में कितना भी कहो,भाव को शब्दों में नही बाँधा जा सकता

gravatar
सचिन मिश्रा said...
14 October 2008 at 9:28 PM  

Bahut badiya likha hai, maa ko pranam.

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 6:55 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय