feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारा तिरंगा झंडा कब बना ओर किस ने चुना इस का रंग

.

बात बहुत पुरानी हे, एक बार राजा राम मोहन राय जी इग्लैंड जा रहे थे, रास्ते मे उन्होने ने फ़्रांस का शिप देखा जिस पर एक तिरंगा फ़्रांस का लहरा रहा था, यह बात हे करीब १८३१ की, ओर १८५७ मे भारत मे क्रन्ति हुयी ओर जनता मे आजादी के मतवाले झुम उठे, ओर फ़िर यह तिरंगा तब से चला, लेकिन समय के साथ साथ इस मे कई तब्दीलीया होती रही,
ओर फ़िर स्वदेशी अन्दोलन ने जोर पकडा तो एक राष्ट्रीया धवज की जरुरत पडी,तो स्वामी विवेकानन्द जी की शिष्या निवोदिता जी ने इस झण्डे की परिकल्पना की, ओर ७ अगस्त १९०६ को कोलकता मे एक रेली मे बंगाल के विभाजन के बिरोध मे इसे लहराया गया।
ओर फ़िर इस मे काफ़ी परिवर्तन हुये , ओर भारत मे एक धव्ज समिति का गठन किया गया, जिस के अध्यक्ष डाक्टर राजेंद्र प्रसाद जी थे, ओर एक बेठक मे यह तह किया गया कि राष्ट धव्ज के रुप मे एक तिरंगा कुछ हो, ओर उस मे आशोक चक्र बीच मे हो, ओर कुछ चरचा ओर परिवर्तनो के बाद आज के तिरंगे का फ़ेसला हुआ, जो आज हमारे सामने हे

6 टिपण्णी:
gravatar
सतीश सक्सेना said...
28 September 2008 at 5:50 AM  

बहुत अच्छी जानकारी दी अपने ! बहुतों को इसकी जानकारी नही होगी !धन्यवाद

gravatar
समयचक्र - महेद्र मिश्रा said...
28 September 2008 at 10:59 AM  

बहुत बढ़िया जानकारी आभार.

gravatar
भूतनाथ said...
28 September 2008 at 12:26 PM  

सुंदर जानकारी दी आपने ! वाकई हमें इतनी जानकारी नही थी !
आपको धन्यवाद हमारी जानकारी बढ़ाने के लिए !

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
28 September 2008 at 12:27 PM  

तिरंगे के बारे में यह जानकारी हमको अवश्य होनी चाहिए !
आपने बहुत अच्छा प्रयास किया है ! धन्यवाद !

gravatar
दीपक "तिवारी साहब" said...
28 September 2008 at 12:29 PM  

इस जानकारी के लिए तिवारी साहब आपको सलाम करते हैं ! हमें
उपरा उपरी जानकारी तो थी , पर इतनी गहरी नही ! धन्यवाद!

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 7:04 AM  

दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय