feedburner

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

आज मै काफ़ी लॆट आऊंगा

.

पठान अपने दोस्त को... यार मेने अपनी बीबी को किस गेर मर्द के संग फ़िलम मै जाते देखा.
दोस्त... तुम दोनो के पीछे पीछे फ़िल्म नही गये ?
ओये यार मेने वो फ़िल्म देखी हुयी थी ना.
******************************************************
एक आदमी काफ़ी रात गये अपने घर फ़ोन करता है( यह बताने के लिये कि आज ओफ़िस से काफ़ी लेट आयेगा)
बीबी फ़ोन उठाती है, तो आदमी बोलता है... जान आज क्या सब्जी बनाई है, बीबी कुछ नकचडी ओर गुस्से मै होती है, ओर गुस्से से कहती है जहर,
आदमी... अच्छा जान तुम खा कर सो जाओ, आज मै काफ़ी लॆट आऊंगा.
******************************************************

24 टिपण्णी:
gravatar
Udan Tashtari said...
13 March 2009 at 9:36 AM  

हा हा, मजेदार!!

gravatar
seema gupta said...
13 March 2009 at 10:06 AM  

ha ha ha ha ha

Regards

gravatar
रंजन said...
13 March 2009 at 10:16 AM  

हाहा हा...

gravatar
HEY PRABHU YEH TERA PATH said...
13 March 2009 at 10:18 AM  

भाई यह उपेन्द्र भाई को क्या हो गया? हा... हा... हा... करके क्यो रो रहे है? फ़िल्म यह उपेन्द्र भाई....................?
*****very good
jai ho bhatiyaji ki.................

gravatar
Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...
13 March 2009 at 10:31 AM  

हा हा हा हा बहुत बढिया......

gravatar
mamta said...
13 March 2009 at 10:46 AM  

:)

gravatar
समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...
13 March 2009 at 10:51 AM  

मजेदार है पर मैंने समयचक्र की चिठ्ठी चर्चा में लिख दिया है कि राज जी कह रहे है कि मै आज लेट आऊंगा. हा हा हा

gravatar
neeshoo said...
13 March 2009 at 11:04 AM  

हा हा हा हा । मजा आ गया सर जी ।

gravatar
शोभा said...
13 March 2009 at 11:56 AM  

हा हा हा बहुत बढ़िया। दुनिया में खुशी बाँटने से अच्छा कोऐ काम नहीं। बधाई।

gravatar
mehek said...
13 March 2009 at 12:31 PM  

:);)bahut mazedar

gravatar
P.N. Subramanian said...
13 March 2009 at 1:42 PM  

मजेदार. आभार.

gravatar
सुशील कुमार छौक्कर said...
13 March 2009 at 1:50 PM  

हा हा हा

gravatar
दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...
13 March 2009 at 2:29 PM  

मजेदार है जी!

gravatar
Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa said...
13 March 2009 at 3:19 PM  

बहुत ही खूब। पहला ज्यादा जोर से लगा।

gravatar
shyam kori 'uday' said...
14 March 2009 at 2:59 AM  

रोचक चुट-चुट-चुटकुले !!!!!

gravatar
आलोक सिंह said...
14 March 2009 at 8:23 AM  

प्रणाम
बहुत बढ़िया , मैं लेट था पर अब आ गया .

gravatar
ताऊ रामपुरिया said...
14 March 2009 at 2:29 PM  

बहुत सही :)

रामराम.

gravatar
दिगम्बर नासवा said...
15 March 2009 at 8:50 AM  

बहुत खूब भाटिय़ा जी .............
मजेदार चुटकुले
prnaam आपको

gravatar
नारदमुनि said...
16 March 2009 at 3:15 AM  

bahut 3,5 karte hain aap to, lage raho udhed bun me, narayan narayan

gravatar
महामंत्री - तस्लीम said...
17 March 2009 at 8:54 AM  

मजेदार।

gravatar
Nirmla Kapila said...
29 March 2009 at 10:47 AM  

वाह लाज्वाब पता नहीं केसे रेह गयी ये पोस्ट देखने से बधाई

gravatar
दिलीप कवठेकर said...
31 March 2009 at 8:13 PM  
This comment has been removed by the author.
gravatar
rakesh said...
6 June 2009 at 12:58 AM  

Malik videsh se ghar phon karta hai " Ramu Me Tumara Malik Bol Raha Hoon "
Ramu " ji Malik"
Malik " Malkin kaha Hai "
Ramu " Biwiji to kisi admi ke sath bedroom me so rahi hai "
Malik (gusse se )" Itni Rat ko Ger Mard ke Sath.., ye kab se chal raha hai?"
Ramu " roj yahi hota hai"
Malik (Pagal hote hue)" Ja Almari se meri pistol nikal or dono ko mar dal"
Ramu" Malik Pistol to Nahi Mili"
MAlik (Gusse me)"to chakku se dono ki gardan kat dal , bewkoof"
Ramu " Thik Hai Malik"
Ramu ( Thodi Der Baad)" ho gaya malik ab Lash ka kya karoo"
Malik " Gh'ar ke Swing pool me phenk de "
Ramu " Magar Malik ghar me to koi swing pool nahi hai..
Malik" Kya ...??? Are ye Konsa No hai"
Ramu " 255025"
Malik " Oh Sorry Wrong No."

gravatar
P Chatterjee said...
3 November 2016 at 5:12 AM  


दोस्त की बीवी

डॉली और कोचिंग टीचर

कामवाली की चुदाई

नाटक में चुदाई

स्वीटी की चुदाई

कजिन के मुहं में लंड डाला

Post a Comment

Post a Comment

नमस्कार,आप सब का स्वागत हे, एक सुचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हे, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी हे तो माडरेशन चालू हे, ओर इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा,नयी पोस्ट पर कोई माडरेशन नही हे, आप का धन्यवाद टिपण्णी देने के लिये

टिप्पणी में परेशानी है तो यहां क्लिक करें..
मैं कहता हूं कि आप अपनी भाषा में बोलें, अपनी भाषा में लिखें।उनको गरज होगी तो वे हमारी बात सुनेंगे। मैं अपनी बात अपनी भाषा में कहूंगा।*जिसको गरज होगी वह सुनेगा। आप इस प्रतिज्ञा के साथ काम करेंगे तो हिंदी भाषा का दर्जा बढ़ेगा। महात्मा गांधी अंग्रेजी का माध्यम भारतीयों की शिक्षा में सबसे बड़ा कठिन विघ्न है।...सभ्य संसार के किसी भी जन समुदाय की शिक्षा का माध्यम विदेशी भाषा नहीं है।"महामना मदनमोहन मालवीय